Gwalior News : जिला अस्पताल में डॉक्टर और मरीज के बीच विवाद में चले पत्थर, डॉक्टर का सिर फोड़ा, तीन गिरफ्तार

डॉक्टर दिलीप राजौरिया के साथ मारपीट के चलते अस्पताल में हंगामा हो गया, डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ ने काम बंद कर दिया, सिविल सर्जन सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे और समझाइश देकर स्टाफ को शांत किया।

Gwalior News

Gwalior News : ग्वालियर में गर्मी का असर दिखाई देने लगा है, लोग जरा सी बात में मारपीट पर उतारू होने लगे हैं, ताजा मामला ग्वालियर के जिला अस्पताल का हैं जहाँ अपना इलाज कराने आये एक व्यक्ति और डॉक्टर के बीच विवाद हो गया। गुस्साया मरीज कुछ लोगों के साथ वापस आया और डॉक्टर के सिर पर पत्थर मार दिया, हंगामा होने पर लोगों ने आरोपियों को पकड़ लिया, मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

जिला अस्पताल में डॉक्टर और मरीज के बीच विवाद

गर्मीजनित बीमारियों के चलते इन दिनों ग्वालियर के अस्पतालों में भारी भीड़ है, मुरार स्थित माधव राव सिंधिया जिला अस्पताल ग्रामीण क्षेत्र को भी कवर करता है इसलिए यहाँ मरीजों की संख्या बहुत अधिक रहती है। आज सुबह एक मरीज अपनी पत्नी के साथ OPD में मौजूद डॉ दिलीप राजौरिया के पास पहुंचा, पत्नी ने बताया कि इसने कल शराब पी ली थी इसे घबराहट बेचैनी हो रही है डॉ राजौरिया ने जब उसका चैकअप किया तो उन्होंने कहा कि पहले आप मेडिसिन  डिपार्टमेंट में जाइए मैं टीबी और चेस्ट का डॉक्टर हूँ इतने में वो भड़क गया और विवाद करने लगा।

धमकी देकर गया मरीज साथियों के साथ आया और डॉक्टर का सिर फोड़ दिया  

डॉ राजौरिया ने बताया कि विवाद के बाद वो धमकी देकर चला गया और वापस तीन चार लोगों के साथ मेरे चेंबर में आया उसने कोई भारी चीज शायद पत्थर मेरे सिर पर मार दिया जिससे मैं बेहोश हो गया, मुझे मेरे साथियों ने पकड़ कर उठाया। बाद में भीड़ ने मारपीट करने वालों को भी पकड़ लिया फिर पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

नाराज स्टाफ ने काम बंद किया, समझाइश के बाद वापस लौटा 

उधर डॉक्टर दिलीप राजौरिया के साथ मारपीट के चलते अस्पताल में हंगामा हो गया, डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ ने काम बंद कर दिया, सिविल सर्जन सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे और समझाइश देकर स्टाफ को शांत किया। उधर पुलिस ने डॉ राजौरिया की एमएलसी कराई गई है और आरोपियों के खिलाफ नियमानुसार एक्शन लिया जा रहा है।

ग्वालियर से अतुल सक्सेना की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ....पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....