Gwalior News : शासकीय जमीन पर अतिक्रमण कर बेचने वाले 6 आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज

शासकीय जमीन को खुर्द-बुर्द करने वाले आरोपियों को चिन्हित कर राजस्व विभाग द्वारा संबंधित पटवारी के माध्यम से उनके खिलाफ पुलिस थाने में भारतीय दण्ड विधान की धारा-420 व 120 बी के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज कराया गया है।

Atul Saxena
Published on -
F.I.R
Gwalior News : ग्वालियर जिले में शासकीय जमीन से बेजा कब्जे हटाने के लिये विशेष मुहिम चलाई जा रही है। इस मुहिम के तहत शासकीय जमीन से अतिक्रमण हटाने के साथ-साथ अतिक्रमण कराने की जुर्रत करने वालों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई भी की जा रही है। इस कड़ी में शहर के दीनारपुर क्षेत्र में शासकीय जमीन को अवैध रूप से नोटरी के जरिए बेचने वाले आधा दर्जन लोगों के खिलाफ पुलिस थाना गोला का मंदिर में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

दीनारपुर क्षेत्र की सरकारी जमीन अतिक्रमण कर बेच दी 

ज्ञात हो कि पिछले दिनों जिला प्रशासन की टीम द्वारा दीनारपुर क्षेत्र की सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटवाए गए थे। इस दौरान यह जानकारी सामने आई थी कि कुछ लोगों द्वारा आम जनों के साथ धोखाधड़ी कर नोटरी के जरिए उन्हें अवैध रूप से सरकारी जमीन बेची गई। शासकीय जमीन को खुर्द-बुर्द करने वाले आरोपियों को चिन्हित कर राजस्व विभाग द्वारा संबंधित पटवारी के माध्यम से उनके खिलाफ पुलिस थाने में भारतीय दण्ड विधान की धारा-420 व 120 बी के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज कराया गया है।

इन 6 आरोपियों पर दर्ज हुई FIR 

अनुविभागीय राजस्व अधिकारी (SDM) मुरार अशोक चौहान ने बताया कि दीनारपुर क्षेत्र की सरकारी जमीन को अवैध रूप से खुर्द-बुर्द करने की जुर्रत करने वाले आरोपियों राघवेन्द्र राजौरिया निवासी अमायन भिण्ड, मोनू शर्मा निवासी नारायण विहार कॉलोनी गोले का मंदिर, नीरज निवासी चार शहर का नाका ग्वालियर, अरविंद निवासी कृष्णा नगर गोले का मंदिर, अजीज खान निवासी चककिशनपुर परीक्षा माता बसैया मुरैना एवं सचिन शर्मा बैरियर चौराहा सिविल लाईन मुरैना के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। तहसीलदार न्यायालय मुरार द्वारा पटवारी गजेन्द्र छारी के माध्यम से यह एफआईआर दर्ज कराई गई है।

About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News