इंदौर में ट्रैफिक नियमों का पाठ पढ़ाने भगवान गणेश उतरे सड़कों पर, जाते-जाते दिया ये संदेश

युवक की पहल कितनी कारगर साबित होगी ये तो वक्त ही बताएगा लेकिन कहा जा सकता है इंदौर में आज जो हुआ वो अबसे पहले कभी नही हुआ है।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर ( इंदौर) सहित समूचे मप्र (MP) और देश मे हर वर्ष सड़क दुर्घटनाओ (road accidents) के चलते लाखों लोगों की जान चली जाती है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए इंदौर के एक युवक ने देशवासियों को नई राह दिखाने के लिए एक अनूठी तरकीब आजमाई। शहर में बढ़ रहे सड़क हादसों को देखते हुए। रीगल चौराहे पर भगवान गणेश (Lord Ganesha ) बनकर लोगों को यातायात नियमों का पालन कराया और लोगों को ट्रैफिक नियम (traffic rules) समझाएं।

यह भी पढ़ें…इंदौर में बना 41वां ग्रीन कारिडोर, तीन दिन में दूसरी बार अंगदान, बचेंगी तीन जिंदगियां

दरअसल, गणेश विसर्जन के दिन यानि रविवार को इंदौर के रीगल तिराहे पर भगवान गणेश का रूप धारण एक युवक लोगों को यातायात के नियम समझाने लगा। बतादें कि भगवान गणेश बनकर लोगों को यातायात नियम समझाने वाले युवक का नाम प्रियांशु चौकसे है। युवक के मुताबिक भारत मे हर वर्ष सड़क हादसों में लाखों लोगों की मौत हो जाती इसके साथ ही यातायात नियमों का उल्लंघन कर लोग खुद व दूसरों को तकलीफ में डाल देते है। ऐसे में लोगो को न सिर्फ शहरी क्षेत्र में बल्कि मुख्य मार्गो और हाईवे पर भी वाहन सावधानीपूर्वक चलाना चाहिये। इसके अलावा देश के हर वाहन चालक का कर्तव्य है कि वो यातायात संबंधी नियमो का पालन करे।

यह भी पढ़ें…सोने के गहने चमकाने के नाम पर ठगी करने वाला गिरोह चढ़ा पुलिस के हत्थे, 3 लाख के माल सहित 8 गिरफ्तार

हालांकि प्रियांशु चौकसे नामक युवक ने जो प्रयास आज किया है। उसी प्रकार से समय-समय पर लोगों को ट्रैफिक नियमों के बारे में अवगत कराने को लेकर लोग और सामाजिक संस्थाओं द्वारा इवेंट किया जाता रहा है। युवक की माने तो लोग बप्पा की हर बात मानते है इसलिये उसने भगवान गणेश के प्रतीक के तौर पर सड़क पर लोगो को समझाइश देने की ठानी ताकि यातायात व्यवस्था में सुधार हो सके।

गौरतलब है कि यातायात नियमों का उल्लंघन करने पर हर साल सड़क हादसों में लाखो लोगो की जान जाती है ऐसे में युवक द्वारा की गई पहल को सड़क पर वाहन चालकों द्वारा सराहा भी गया। युवक की पहल कितनी कारगर साबित होगी ये तो वक्त ही बताएगा लेकिन कहा जा सकता है इंदौर में आज जो हुआ वो अबसे पहले कभी नही हुआ है।