1 जून से इंदौर में किन पाबंदियों से मिलेगी राहत इस पर जल्द ही होगा फैसला !

प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट ने ये साफ कर दिया कि जून महीने की शुरुआत के साथ ही इंदौर शहर एवं जिला एक बार फिर से अनलॉक की ओर बढ़ेगा।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) इंदौर (Indore) और सागर (Sagar) जिले में कोरोना संकमण (corona infection) की दर 5 प्रतिशत से कम नहीं हुई है। लिहाजा ये तो तय है कि इन स्थानों पर अनलॉक (Unlock) के लिए लोगो को कुछ समय तक इंतजार करना पड़ सकता है। इंदौर में अनलॉक को लेकर अन्य जिलों की तर्ज पर एक तरह की बेचैनी लोगो के मन मे है। लोगो को उम्मीद है 1 जून के बाद भी जारी रहने वाले लॉकडाउन के दौरान उन्हें जिला प्रशासन कुछ पाबंदियों से मुक्त कर कुछ सेवाओं पर प्रतिबंध भी हटा सकता है। लिहाजा रविवार शाम को शुरू हुई प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट (Minister Tulsi Silawat) की अध्यक्षता में हुई बैठक से सभी को आशा थी। हालांकि इस बैठक के बाद भले ही फैसला सामने नही आया हो लेकिन बहुत हद तक इंदौर में जनता कर्फ्यू में राहत मिलने की संभावना बनती दिखाई दे रही है।

यह भी पढ़ें…गुना : बमौरी में 60 लाख रुपए की लागत से बनेगा ऑक्सीजन प्लांट, मिली मंजूरी

हालांकि प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट ने ये साफ कर दिया कि जून महीने की शुरुआत के साथ ही इंदौर शहर एवं जिला एक बार फिर से अनलॉक की ओर बढ़ेगा। ऐसे में कोरोना नियंत्रण एक बड़ी चुनौती रहेगा। इस चुनौती का सामना जनप्रतिनिधि, ज़िले की जनता और प्रशासन मिलकर करेंगे। वही इस दौरान सांसद शंकर लालवानी (Shankar Lalwani) ने बताया कि सीएम से मिले निर्देश के साथ ही प्रोटोकॉल के तहत जिला क्राइसेस कमेटी द्वारा शहर को खोलने की तैयारी की जाएगी।

बतादें कि इंदौर कलेक्टर (Indore Collector) मनीष सिंह ने भी बैठक के बाद ये ही बात कही है कि जो भी फैसला होगा वो इस माह के अंतिम दिन होगा। साथ ही उन्होंने कोरोना की रोकथाम को प्राथमिकता बताते हुए बताया कि लोगो को मास्क पहनने, सोशल डिस्टेसिंग सहित अन्य कोविड नियमो का पालन करने के साथ वैक्सीनेशन भी करवाना जरूरी है। क्योंकि ये दो ही ऐसे जरिये है जिससे कोरोना से लड़ा जा सकता है। प्रभारी मंत्री द्वारा ली गई बैठक में 1 जून के बाद शहर की प्रस्तावित स्थिति और परिदृश्यों का आंकलन किया गया और जानकारी सामने आई है कि सोमवार दोपहर को जिला क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक के बाद अंतिम निर्णय लिया जाएगा जिस पर प्रशासन की मुहर शाम तक लग सकती है।

यह भी पढ़ें…दतिया : गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कोरोना वारियर्स का किया सम्मान