प्रदेश के सबसे बड़े फ्लाई ओवर ब्रिज की लंबाई 7 km तक बढ़ाई गई, पक्ष-विपक्ष के नेताओं में लगी श्रेय की होड़

जबलपुर में मदनमहल से गोपालबाग तक बनने वाले फ्लाई ओवर ब्रिज की लंबाई 1 किलोमीटर तक और बढ़ा दी गई है।

जबलपुर, संदीप कुमार। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के जबलपुर (Jabalpur) में प्रदेश का सबसे बड़ा फ्लाई ओवर ब्रिज (Flyover Bridge) जो कि अभी निर्माणधीन है, अब इसकी लंबाई एक किलोमीटर और बढ़ा दी गई है। इसपर भाजपा सांसद ने इसे अपना प्रयास बताया है। इधर दूसरी तरफ फ्लाई ओवर ब्रिज को लेकर कांग्रेस विधायक का भी बयान सामने आया है, जिस पर उन्होंने बताया कि उनके द्वारा लिखे गए पत्र और लगातार मंत्रियों से इस विषय पर बात करने से यह संभव हो पाया है।

ये भी पढ़ें- LIC Policy 2021 : हर दिन 130 रुपये निवेश कर पा सकते है 27 लाख, यहां देखें पूरी डिटेल्स

अब 7 किलोमीटर का होगा फ्लाई ओवर ब्रिज

मदनमहल से गोपालबाग तक बनने वाले फ्लाई ओवर ब्रिज की लंबाई और बढ़ा दी गई है। साथ ही इसका बजट भी बढ़ाया गया है। 6 किलोमीटर तक बनने वाला फ्लाई ओवर ब्रिज अब सात किलोमीटर तक का होगा। इसके लिए बजट बढ़ाते हुए भूतल परिवहन विभाग ने 78 करोड़ रुपये और स्वीकृत किए हैं। अभी यह ब्रिज निर्माणाधीन है। फ्लाई ओवर ब्रिज को लेकर जबलपुर बीजेपी सांसद राकेश सिंह ने कहा कि- मैंने इसकी कल्पना की थी और इसके प्रयास भी मैंने ही किए थे। इसमे अब 1 किलोमीटर की लंबाई और बढ़ाई जा रही है। अभी जहां गोपालबाग में ब्रिज को उतारा जा रहा था उसे बढ़ाकर दमोहनाका से आगे कर दिया गया है। सांसद ने बताया कि अब इस ब्रिज से दो रैम्प भी दमोहनाका से अधारताल और दमोहनाका से पाटन तरफ उतरेगा। सांसद ने कहा कि बजट के अभाव में कुछ कमी आ रही थी जिसके बाद 78 करोड़ रुपये और स्वीकृत करवाए गए हैं।

ये भी पढ़ें- Indore news : देर रात भीषण सड़क हादसा, 3 ढाबा कर्मचारियों की मौत, अन्य 3 गंभीर घायल

इधर, मध्यप्रदेश के सबसे बड़े निर्माणाधीन फ्लाई ओवर ब्रिज को लेकर भाजपा सांसद राकेश सिंह के बाद अब कांग्रेस विधायक का भी बयान सामने आया है। विधायक विनय सक्सेना ने कहा है कि- “मैं कभी श्रेय की राजनीति नहीं करता हूं। उन्होने कहा कि- मैं जानता हूँ कि केंद्र में एक सांसद के प्रयास का बहुत महत्व है पर मैंने भी अपनी जिम्मेदारी का प्रयास किया।” कांग्रेस विधायक का कहना है कि मदनमहल से गोपलबाग तक बन रहे फ्लाई ओवर ब्रिज में कुछ कमी थी जिसके बारे में उन्होंने विधानसभा बात उठाई थी। इसके अलावा लोक निर्माण मंत्री का भी इस ओर ध्यान अवगत करवाया था कि ब्रिज की लंबाई थोड़ी बड़ाई जाए नहीं तो आने वाले समय में दमोहनाका पर ट्रैफिक का लेकर समस्या आ सकती है।

पुल की बढ़ी लंबाई, अब नहीं लगेगा जाम

जानकर बताते है कि अगर फ्लाई ओवर ब्रिज दमोहनाका में आकर खत्म हो जाता तो जाम से निजात पाने की जगह यहां जाम और बढ़ जाता पर अब जबकि फ्लाई ओवर ब्रिज की लंबाई तकरीबन एक किलोमीटर बढ़ गई तो ये समस्या अब नहीं आएगी। अब न जाम लगेगा और यातायात और ज्यादा आसान हो जाएगा।