Jabalpur News : तेंदुआ ने तीन ग्रमीणों पर किया हमला, घायलों को मेडिकल कॉलेज में कराया भर्ती

मशक्कत के बाद तेंदुआ की गिरफ्त से युवक को छुड़ाया गया।

जबलपुर, संदीप कुमार। जंगली जानवर अब धीरे-धीरे रहवासी इलाकों की और रूख करने लगे है,पाटन तहसील के मैढ़ीझामर गांव के जंगल मे आज तेंदुआ (jabalpur leopard attacked) ने तीन ग्रमीणों पर हमला कर उन्हें घायल कर दिया,घायलों को मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया है बताया जा रहा है कि जब ग्रमीण जंगल से लगे भिंडी के खेत में काम कर रहे तभी एक वृद्ध और महिला पर तेंदुआ ने हमला कर जख्मी कर दिया,सूचना मिलने के बाद रेस्क्यू के लिए जब वन विभाग का अमला पहुँचा तो तेंदुआ ने दोबारा एक युवक को भी झपट्टा मारकर पकड़ लिया, मशक्कत के बाद तेंदुआ की गिरफ्त से युवक को छुड़ाया गया।

यह भी पढ़े…सरकारी परीक्षा कैलेंडर: जाने मई में किस दिन होगी कौन-सी सरकारी परीक्षा    

पाटन थाना प्रभारी के मुताबिक मैढ़ीझामर गांव से सूचना मिली कि जंगली जानवर ने खेत में काम कर रहे कुछ मजदूरों पर हमला कर दिया, जानकारी वन विभाग टीम को देकर मौके पर पहुंचे तो पता चला कि लक्ष्मी बाई कुशवाहा 35 साल और बेनी प्रसाद अहरवार 70 साल भिंडी के खेत में काम कर रहे थे इसी दौरान पीछे से तेंदुआ ने दौड़ लगाते हुए पहले महिला को जकड़ लिया। महिला को तेंदुआ से छुड़ाने के लिए बेनी प्रसाद ने कोशिश की तो तेंदुआ ने उस पर भी झपट्टा मारकर घायल कर दिया, दूसरे खेत में काम कर रहे अन्य लोगों को इसकी जानकारी लगी तो वह भी दौड़ते हुए पहुंचे और तेंदुआ से महिला और वृद्ध को छुड़ाया, तेंदुआ महिला और वृद्ध पर हमला करने के बाद उसी खेत से लगे जंगल मे चला गया।

यह भी पढ़े…UP से आकर MP में कर रहे थे लूट, इंटर स्टेट चेन स्नेचर गिरोह के दो बदमाश गिरफ्तार

कुछ देर बाद जब वन विभाग की टीम रेस्क्यू टीम रेस्क्यू करने पहुँची तो तेंदुआ ने एक और युवक पर हमला कर उसे अपने साथ ले जाने की कोशिश करने लगा लेकिन रेस्क्यू टीम और ग्रामीणों ने युवक को तेंदुआ के चंगुल से छुड़ाया,घायल युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया,ग्रामीणों पर तेंदुआ के हमले की जानकारी वन विभाग के अधिकारियों को भी दी गई, रेस्क्यू टीम अभी गाँव में मौजूद है और तेंदुए का रेस्क्यू जारी है, तेंदुआ की चपेट में कोई ग्रामीण ना आए इसके लिए पुलिस और वन विभाग द्वारा अलर्ट जारी किया गया है,बताया जा रहा है कि संभवत: ज्यादा गर्मी होने के कारण तेंदुआ को प्यास लगी होगी और इसी वजह से वह रहवाशी क्षेत्र की तरफ आ पहुंचा है।