Jabalpur News: जबलपुर में भगवा झंडे उतारने पर विरोध, फुहारा में बीच सड़क पर हिंदू संगठनों ने दिया धरना

शहर का बड़ा फुहारा पर नगर निगम के विरोध में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, भाजपा और अन्य हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ता विरोध करते हुए सड़क पर बैठ गए। वे प्रदर्शनकारी नगर निगम के जिम्मेदार अफसरों को निलंबित करने की मांग पर अड़े हुए हैं।

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर नगर निगम स्वच्छता सर्वेक्षण मैं नंबर 1 बनने का लगातार प्रयास कर रहा है, यही वजह है कि पूरे शहर में सफाई स्वच्छता पर नगर निगम ध्यान दे रहा है। इसी बीच हिंदू नववर्ष और चैत्र प्रतिपदा पर हिन्दू संगठनों ने शहर में भगवा झंडे लगा दिए। जिसे नगर निगम ने निकालने की कोशिश की। इसको लेकर हिंदू संगठन नाराज हो गए और फिर जमकर हंगामा किया। विवाद बढ़ता देख पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुँच गए।

यह भी पढ़ें – इंस्टाग्राम पर बिना किसी नोटिफिकेशन के भी मैसेज भेज सकते हैं आप, जाने इसका तरीका

शहर का बड़ा फुहारा पर नगर निगम के विरोध में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, भाजपा और अन्य हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ता विरोध करते हुए सड़क पर बैठ गए। वे प्रदर्शनकारी नगर निगम के जिम्मेदार अफसरों को निलंबित करने की मांग पर अड़े हुए हैं। नगर निगम और प्रशासन के अधिकारी भी समझाने पहुंचे लेकिन मौके पर कलेक्टर को आकर बात करने की जिद प्रदर्शनकारियों ने की।

यह भी पढ़ें – Morena News: जिला अस्पताल में खुलेआम मोबाइल से नर्सिंग के परीक्षार्थी कर रहे धड़ल्ले से नकल, कॉलेज संचालक की बड़ी लापरवाही

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से लगातार हिंदूवादी संगठन नगर निगम के अतिक्रमण दल का विरोध कर रहा है। हिंदू संगठनों का आरोप है कि हिंदू त्योहार पर लगे बधाई होर्डिंग और पोस्टर को नगर निगम का अमला निकालकर उसे कूड़ेदान में फेंक रहा है, इससे हिंदुओं की भावना आहत हो रही है। हिन्दू संगठनों ने भगवा ध्वज को नहीं हटाने की चेतावनी निगम प्रशासन को दी थी। लेकिन शनिवार को फिर नगर निगम के अमले ने बड़े फुहारा पर लगे पोस्टर, होर्डिंग को हटा दिया।

यह भी पढ़ें – Mandi bhav: 2 अप्रैल 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

यह जानकारी जैसे ही हिंदूवादी संगठनों को लगी तो सभी मौके पर जमा हो गए। इसमें भाजपा, बजरंग दल, राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के पदाधिकारी शामिल थे। सभी ने नगर निगम की कार्रवाई का विरोध किया। इस दौरान सड़क पर जाम लग गया। नवरात्र होने के कारण बाजार में भीड़ थी। कुछ देर में पुलिस भी पहुंच गई। नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी भूपेंद्र सिंह भी पहुंचे लेकिन उनके साथ किसी तरह की बात किए बगैर प्रदर्शनकारियों ने उन्हें वापस लौटा दिया। इसके पश्चात एडीएम राजेश बाथम और एसडीएम नम:शिवाय अरजरिया भी गए, लेकिन प्रदर्शनकारी बगैर कलेक्टर के आए धरना स्थल से हटने तैयार ही नहीं थे।