MP के बदमाशों ने राजस्थान पुलिस के ASI का अपहरण किया, पुलिस को देखकर रास्ते में छोड़कर भागे

Morena News MP News : अपराधों के लिए बदनाम मध्य प्रदेश के चम्बल अंचल के मुरैना जिले में बदमाश कितने बेख़ौफ़ है इसका एक बड़ा उदाहरण सामने आया है, दबंगों न इक पुलिस वाले का ही अपहरण कर लिया, वो उसके साथ कुछ गलत कर पाते उससे पहले ही उन्होंने पुलिस उनकी तरफ आता को देख लिया तो बदमाश गाड़ी और ASI को छोड़कर भाग गए। राजस्थान पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कर लिया है।

जानकारी के अनुसार बदमाशों ने देर रात को धौलपुर से एक एएसआई का अपहरण कर लिया। धौलपुर पुलिस ने पीछा किया तो एएसआई को बाबा देवपुरी पर छोड़ दिया और मुरैना की तरफ भाग खड़े हुए। धौलपुर पुलिस ने रात को ही उस स्कार्पियो वाहन को जब्त कर लिया है जिससे अपहरण किया था। आरोपियों में दो मुरैना के है।

घटनाक्रम के अनुसार देर रात को महाराजपुर चौराहे के पास धौलपुर में कुछ लोगों में झगड़ा हुआ था इस दौरान स्कॉर्पियो से कुछ बदमाश एक व्यक्ति को गाड़ी में डालकर ले जा रहे थे। इसी दौरान सदर थाना धौलपुर के एएसआई रविंद्र सिंह अपनी निजी गाड़ी से अपने एक साथी के साथ घर जा रहे थे। जैसे ही उन्हें अपहरण की सूचना मिली तो उन्होंने स्कार्पियो सवार बदमाशों का पीछा किया।

पीछा होता देख वाटर वर्क्स चौराहा हाईवे धौलपुर के पास बदमाश रुके और उन्होंने एएसआई रविंद्र सिंह से मारपीट की, उसकी निजी कार में तोड़फोड़ कर उनका अपहरण कर गाड़ी में डालकर मुरैना की तरफ भागे। सूचना मिलने पर सीओ सिटी सुरेश सांखला ने टीम के साथ बदमाशों का पीछा किया।

पुलिस द्वारा पीछा किये जाने से घबराये बदमाश मुरैना जिले के बाबा देवपुरी मंदिर के पास एएसआई रविंद्र सिंह को छोड़कर भाग गए। पीछा कर पुलिस ने बदमाशों की गाड़ी को मुरैना से जब्त कर लिया है। एएसआई की रिपोर्ट पर निहालगंज थाना धौलपुर में मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि इस मामले में नीरज मावई निवासी मुरैना, छोटू मावई निवासी मुरैना एवं जयकेश कंषाना, भूरी कंषाना निवासी अशोक बिहार कॉलोनी वाटर बॉक्स धौलपुर सहित 6-7 अन्य के खिलाफ अपहरण सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

MP के बदमाशों ने राजस्थान पुलिस के ASI का अपहरण किया, पुलिस को देखकर रास्ते में छोड़कर भागे

मुरैना से नितेंद्र शर्मा की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News