बंशी गुर्जर के पक्ष में उतरा गुर्जर समाज, डीएसपी से मिलकर सौंपा ज्ञापन

Amit Sengar
Published on -
neemuch news

Neemuch News : मध्य प्रदेश के नीमच जिले में जेल से रिहा होने के बाद बंशी गुर्जर ने नई जिंदगी की शुरूआत की, कुछ तथाकथित लोग उसे शराफत की जिंदगी जीने नहीं दे रहे है। यह बात शनिवार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे गुर्जर समाज के पदाधिकारियों ने डीएसपी वैशाली सिंह को कहीं। एसपी अमित तोलानी की अनुपस्थिति में गुर्जर समाज के लोगों ने डीएसपी के समक्ष अपनी बात रखी।

क्या है पूरा मामला

समाजजनों ने कहा कि बंशी गुर्जर बदल गया है। पहले वह आपराधिक गतिविधियों में लिप्त था, दो वर्ष पहले वह जेल से छूटकर आया और अपराध की दुनिया से कोसों दूर है। कुछ दिनों पूर्व बंशी गुर्जर के खिलाफ बडकुआं के इदरिश ने जमीन हथियानें की झूठी शिकायत दर्ज करवाई, जबकि इदरिश खुद उसके भाईयों की जमीन हथियाना चाहता था। उसके भाई खलील और आरिफ ने बंशी गुर्जर को जमीन बेची तो वह झूठी शिकायतें कर बंशी गुर्जर को बदनाम कर रहा है। बंशी गुर्जर ने एक संदेश समाज के समक्ष पेश किया है। अपराध से तौबा कर वह खेती कर अपने परिवार का जीवन यापन कर रहा है। समाजसेवा के हर कार्यक्रम में वह बढचढकर हिस्सा लेता है।

बंशी गुर्जर ने खुद बदलकर यह साबित कर दिया कि जेल में रहकर व्यक्ति सुधर सकता है और छूटने के बाद अपराधों से दूर रहकर वह खुशहाल जिंदगी बीता सकता है। गुर्जर युवा महासभा के अध्यक्ष मदन गुर्जर ने बताया कि बंशी गुर्जर को बदनाम करने का षडयंत्र रचा गया है, जिसका भंडाफोड हो चुका है। नेक और शराफत की जिंदगी जी रहे बंशी गुर्जर के साथ पूरा समाज खडा है। अकसर यह माना जाता है कि अपराधी जेल काटने के बाद फिर अपराध करता है, लेकिन बंशी गुर्जर ने ठीक विपरीत किया। अपने व्यक्तित्व को निखारकर समाजसेवा में जुटा। बीते दो वर्ष के दौरान हर वर्ग में बंशी गुर्जर ने अमिट छाप छोडी है। इसी से तिलमिलाकर कुछ कथित आपराधिक प्रवृत्ति के लोग बंशी गुर्जर की शिकायत कर रहे है। इस अवसर पर शिवम गुर्जर, मनोहर गुर्जर, वीरू गुर्जर सहित कई समाजजन मौजूद थे।

खुद शिकायकर्ता अपराधिक गतिविधियों में लिप्त

गुर्जर समाज के पदाकारियों ने बताया कि बडकुआं के जिस इदरिश नामक व्यक्ति ने शिकायत की है, वह खुद भाईयों की जमीन हडपना चाहता था। वह खुद अपराधिक गतिविधियों में लिप्त है। इसकी पुलिस जांच करें तो कई खुलासें होंगे। बंशी गुर्जर ने जेल से छूटने के बाद नई जिंदगी की शुरूआत की है, जेल में बंद उन कैदियों के लिए बंशी गुर्जर प्रेरणादायक है। बंशी गुर्जंर हर धार्मिक गतिविधियों में आगे रहते है।

नीमच से कमलेश सारडा की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News