Panna News: स्वास्थ्य विभाग की लचर व्यवस्था के आगे मजबूर आम जनता, 65 साल की बुजुर्ग को रिक्शे से अस्पताल लेकर पहुंचा बेटा

एक बीमार बुजुर्ग महिला, जिन्हें एंबुलेंस की जरूरत थी, उन्हें एंबुलेंस की सुविधा नहीं मिल सकी। इस कारण महिला का 65 वर्षीय बेटा खुद उन्हें रिक्शे में बिठाकर 25 किलोमीटर दूर जिला अस्पताल ले गया।

Sanjucta Pandit
Published on -

Panna News : मध्य प्रदेश के पन्ना जिले से गंभीर समस्या सामने आई है, जहां एक बीमार बुजुर्ग महिला, जिन्हें एंबुलेंस की जरूरत थी, उन्हें एंबुलेंस की सुविधा नहीं मिल सकी। इस कारण महिला का 65 वर्षीय बेटा खुद उन्हें रिक्शे में बिठाकर 25 किलोमीटर दूर जिला अस्पताल ले गया। यह तस्वीरें देवेंद्र नगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की है जोकि स्वास्थ्य विभाग के दावों की सच्चाई को उजागर कर रही है।

उपचार के बाद किया रेफर

जानकारी के अनुसार, पन्ना जिले के देवेंद्र नगर तहसील अंतर्गत जिगदहा निवासी रामभगत चौधरी अपनी 90 वर्षीय मां कमलाबाई चौधरी को पैर में चोट लगने के बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र देवेंद्र नगर में भर्ती कराना पड़ा था। वहां प्राथमिक उपचार के बाद वृद्धा को जिला अस्पताल पन्ना के लिए रेफर कर दिया गया। बता दें कि रामभगत चौधरी ने अस्पताल प्रबंधन से एंबुलेंस की मांग की, लेकिन उन्हें एंबुलेंस की सुविधा नहीं मिली। ऐसे में उन्हें मजबूरन अपनी 90 वर्षीय मां को रिक्शा में बिठाकर 25 किलोमीटर दूर जिला अस्पताल पन्ना तक ले जाना पड़ा।

समाजसेवी ने की मदद

भीषण गर्मी और चिलचिलाती धूप के बीच उन्होंने यह कठिन सफर तय किया। 25 किलोमीटर का यह सफर करने में उन्हें करीब 12 घंटे का समय लगा। इस बीच पन्ना से सतना जा रहे समाजसेवी संजय ने शाम को रास्ते में देखा कि रामभगत चौधरी अपनी मां कमलाबाई चौधरी को रिक्शे पर लाते हुए परेशान हैं, तब संजय ने अपनी गाड़ी रोककर वृद्ध मां और पुत्र की मदद करने का निर्णय लिया। उन्होंने अपनी निजी वाहन से उन्हें जिला अस्पताल पहुंचाया। जिसके बाद कमलाबाई चौधरी का इलाज शुरू हो सका।


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News