देश में दूसरी नंबर पर Satpura Tiger Reserve, पीएम मोदी ने जारी किए MEE रिपोर्ट के आंकड़े

Satpura Tiger Reserve

Satpura Tiger Reserve : बाघ के लिए मध्यप्रदेश पूरी दुनिया में चर्चित है। मध्यप्रदेश के कुछ राष्ट्रीय उद्यान जो बाघों को देखने के लिए काफी ज्यादा फेमस है। यहां करीब से बाघों को देखा जा सकता हैं। खास बात ये है कि इसमें से कुछ उद्यान यूनेस्को की वर्ल्ड हैरिटेज साइट में शामिल है। इसी में से एक सतपुड़ा टाइगर रिजर्व ने एक और उपलब्धि हासिल की है।

दरअसल, देश में सबसे सर्वश्रेष्ठ टाइगर रिजर्व में सतपुड़ा का नाम दूसरे नंबर पर आया है। पहले नंबर पर केरल के पेरियार टाइगर रिजर्व शामिल है। जानकारी के मुताबिक, 12 रिजर्व देश के टॉप माने जाते हैं। जिनमें से मध्यप्रदेश के तीन शामिल है। इसमें सबसे दूसरे नंबर पर सतपुड़ा टाइगर रिजर्व है तो पांचवे नंबर पर कान्हा टाइगर रिजर्व और आठवें नंबर पर सिवनी के पेंच टाइगर है।

PM Modi ने MEE के आंकड़े किए जारी

सतपुरा टाइगर रिजर्व को 93.8% MEE स्कोर मिला है। यही सेम तीसरे नंबर पर आए बांदीपुर टाइगर रिजर्व कर्नाटक को भी मिला है। इससे पहले जो पहले स्थान पर आए पेरियार टाइगर रिजर्व पार्क को MEE स्कोर 94.38% मिला है। पीएम मोदी ने रविवार के दिन प्रबंधन प्रभावशीलता मूल्यांकन रिपोर्ट में आंकड़े जारी किए हैं।

सतपुड़ा टाइगर रिजर्व को ये उपलब्धि बेहतर प्रबंधन, कार्य, बेहतर टीम की वजह से मिली है। यहां सबसे ज्यादा पर्यटक हर साल घूमने के लिए और बाघों का दीदार करने के लिए आते हैं। ये जगह पर्यटकों की भी पहली पसंद बनी हुई है। अब ये देश में दूसरे सबसे सर्वश्रेष्ठ टाइगर रिजर्व में शामिल हो चुकी हैं। इससे इसकी पहचान और ज्यादा बढ़ जाएगी।

Satpura Tiger Reserve में 53 से ज्यादा बाघ मौजूद

जैसा कि आप सभी को पता है मध्यप्रदेश में क्षमता के अधिक बाघ हैं। ऐसे में सतपुड़ा टाइगर रिजर्व बाघों के लिए बेहद फेमस नेशनल पार्क में से एक है। यह सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान के नाम से जाना जाता है। यह नर्मदा पुरम होशंगाबाद जिले में बना हुआ है। इस पार्क का नाम सतपुड़ा रेंज से चुना गया है। यह पाठ 524 किलोमीटर के क्षेत्र में बना हुआ है। 1981 में इस पार्क को स्थापित किया गया था। यह भारत का सबसे बड़ा टाइगर रिजर्व में से एक है। यहां आपको 53 से ज्यादा बाघ देखने को मिलेंगे।

 

 


About Author
Avatar

Ayushi Jain

मुझे यह कहने की ज़रूरत नहीं है कि अपने आसपास की चीज़ों, घटनाओं और लोगों के बारे में ताज़ा जानकारी रखना मनुष्य का सहज स्वभाव है। उसमें जिज्ञासा का भाव बहुत प्रबल होता है। यही जिज्ञासा समाचार और व्यापक अर्थ में पत्रकारिता का मूल तत्त्व है। मुझे गर्व है मैं एक पत्रकार हूं। मैं पत्रकारिता में 4 वर्षों से सक्रिय हूं। मुझे डिजिटल मीडिया से लेकर प्रिंट मीडिया तक का अनुभव है। मैं कॉपी राइटिंग, वेब कंटेंट राइटिंग, कंटेंट क्यूरेशन, और कॉपी टाइपिंग में कुशल हूं। मैं वास्तविक समय की खबरों को कवर करने और उन्हें प्रस्तुत करने में उत्कृष्ट। मैं दैनिक अपडेट, मनोरंजन और जीवनशैली से संबंधित विभिन्न विषयों पर लिखना जानती हूं। मैने माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से बीएससी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में ग्रेजुएशन किया है। वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन एमए विज्ञापन और जनसंपर्क में किया है।

Other Latest News