कलेक्टर की रोक के बावजूद पुलिस की मौजूदगी में निकले डंपर, आरक्षक निलंबित, 7 की वेतन वृद्धि रोकी

In-the-case-of-illegal-sand-transport

सीहोर। अवैध रैत परिवहन के मामले में  पुलिस अधीक्षक शशीन्द्र सिंह चौहान ने बड़ी कार्रवाई की है। चौहान ने नसरुल्लागंज के एफआरवी. में तैनात आरक्षक हिम्मत सिंह (बैच नंबर 670) को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।  वहीं, सात पुलिस कर्मियों की वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिये गये हैं।इसके साथ ही  इन लोगों के ट्रांसफर किए जाने की आदेश भी दिए हैं। कार्रवाई के बाद से ही पुलिस महकमें में हड़कंप मचा हुआ है।

मिली जानकारी के अनुसार,  24 मई की रात को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था। जिसमें रात के समय करीब 35 रेत के डंपर निकलते दिखाई दे रहे थे और डंपर पुलिस के एफआरवी वाहन भी वहां खड़ा हुए दिखाई दे रहे थे।जबकी कलेक्टर गणेश शंकर मिश्रा ने रेत का अवैध उत्खनन एवं परिवहन शाम 6 से प्रात: 6 बजे तक प्रतिबंधित किया गया है। इसके बावजूद भी एफ.आर.वी. वाहन में तैनात हिम्मत सिंह ने रेत के डंफरों के संबंध में न तो किसी सक्षम अधिकारी को अवगत कराया न ही स्वत: कोई कार्यवाही की।जिसके बाद कलेक्टर की रोक के बाद भी पुलिस की मौजूदगी में रेत के डंपर निकलने को लेकर पुलिस अधीक्षक एसएस चौहान ने नसरुल्लागंज एफआरवी में तैनात आरक्षक हिम्मत सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। 

वही पुलिस अधीक्षक ने 24 मई को नसरुल्लागंज क्षेत्र में गश्त ड्यूटी पर तैनात सभी अधिकारी और कर्मचारियों की एक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश दिए हैं। बताया जा रहा है कि 24 मई की रात को नसरुल्लागंज में गश्त पीएसआई संजय गुर्जर, आरक्षक दीपक चौहान, सुबोध, सैनिक देवकरण, कमल सिंह, कमल सिंह एवं महेश धुर्वे ड्यूटी पर थे, जिसकी वेतनवृद्धि रोकी गई है। इन लोगों के ट्रांसफर किए जाने की आदेश भी दिए हैं।