शिवपुरी में करीबी ने करवाई घर में डकैती, पुलिस ने 48 घंटे के अंदर 3 आरोपियों को किया गिरफ्तार

सवा करोड़ नगद सहित सोने चांदी के जेवरात चोरी करने वाले बदमाशों को पुलिस ने दबोच लिया है। बताया जा रहा है कि शिवपुरी जिले की पुलिस ने निबाड़ी पुलिस की मदद से इन बदमाशो का पकड़ा है।

MP News

शिवपुरी, शिवम पांडेय। शिवपुरी (shivpuri) जिले में 7 अप्रैल 2021 को फरियादी जहार सिंह गुर्जर ने करेरा थाने में रिपोर्ट (report) की थी कि 06 और 07 अप्रैल की दरमियानी रात वह अपने घर में अपनी पत्नि व बच्चों के साथ सो रहा था तभी अज्ञात चोरों (thieves) ने उसके द्वारा घर की जमीन बेच कर मिले दो-दो हजार रुपये की 62 गड्डी, कुल 01 करोड, 24 लाख रुपये एंव चांदी की करधनी, व दो जोड़ी पायलें चुरा (steal) कर ले गये।

जिले के करैरा थाना अंतर्गत रहने वाले किसान जहार सिंह गुर्जर के घर सवा करोड़ नगद सहित सोने चांदी के जेवरात चोरी करने वाले बदमाशों को पुलिस ने दबोच लिया है। बताया जा रहा है कि शिवपुरी जिले की पुलिस ने निबाड़ी पुलिस की मदद से इन बदमाशो का पकड़ा है। पुलिस ने नोटो से भरे 3 बैग भी बरामद किए है, पकड़े गए बदमाश झांसी के बताए जा रह हैं वहीं पकड़े गए बदमाशो में एक बलात्कार के मामले में फरार चल रहा हैं। करैरा में इस चोरी को ट्रेस करने का दबाव पुलिस पर था और पुलिस ने 48 घंटे में चोरी को ट्रेस करने में सफलता हासिल कर ली।

यह भी पढे़ं… स्वादिष्ट राजमा चावल ने पहुंचाया अस्पताल, एक परिवार के चार सदस्य आईसीयू में भर्ती

नई तहसील के किसान के घर से सवा करोड़ की चोरी के मामले का पुलिस ने पर्दाफाश कर लिया है और इस मामले में तीन आरोपियों को गिराफ्तार भी कर लिया है। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही से नगद 38 लाख 36 हजार रुपये के साथ साथ चोरी किये गए जेवरात और घटना में प्रयुक्त हथियार भी बरामद किए है। घटना के दो आरोपी अभी फरार हैं जिनको शीघ्र गिराफ्तार करने की बात पुलिस कह रही है। जांच के बाद पुलिस ने चोरी की घटना को डकैती में तब्दील किया है।

पुलिस का कहना है कि घटना के दौरान फरियादी जहार सिंह गुर्जर के बड़े लड़के धीरेंद्र सिंह ने आरोपियों को देख लिया था लेकिन आरोपियों ने हथियारों की दम पर उसे चुप कराकर घटना को डकैती का रूप दिया था। इस मामले में 3 बदमाश करैरा के है वही 2 बदमाश झांसी के है। अभी रविन्द्र वंशकार निवासी करैरा, कीरत जोशी, करैरा और पंकज गोस्वामी झांसी को गिराफ्तार कर लिया है। शेष दो आरोपी पप्पू सोनी, करैरा, राजू कोरी निवासी झांसी अभी फरार हैं। जिनकी तलाश में पुलिस जुटी है।

आई जी ग्वालियर अविनाश शर्मा ने इस घटना का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को 30 हजार के इनाम से पुरुस्कृत करने की घोषणा भी की है। पुलिस ने जब इस मामले की गंभीरता से जांच की तो पाया कि सवा करोड़ नहीं बल्कि 62 लाख की चोरी हुई है। फरियादी ने कहा कि हमारे द्वारा जो चार बीघा जमीन एक करोड़ 24 लाख रुपये में बेची गयी थी वो हम दो भाईयों के हिस्से की थी, मेरा बड़ा भाई मुन्ना अपने हिस्से की रकम खुद के घर ले जा चुका था इस बात की जानकारी घटना के वक्त मुझे नही थी, इस लिये रिपोर्ट करते समय मैने पूरी रकम 01 करोड़ 24 लाख रुपये चोरी होने की बात लिखाई थी। बाद में भाई मुन्ना से बात होने पर मुझे पता चला कि वह अपने हिस्से की रकम 62 लाख रुपये मेरे घर से ले जा चुका था।

इस घटना के खुलासे एंव रकम बरामदगी में महत्वपूर्ण भूमिका में पिछोर टीआई अजय भार्गव, करैरा टीआई अमित भदौरिया, एस आई राघवेन्द्र यादव, एस. आई रुपेश शर्मा, एस आई रविन्द्र सिकरवार, एएसआई प्रवीण त्रिवेदी, एस आई कुलदीप सिंह,एस आई राजवीर सिंह गुर्जर, एस आई अजय मिश्रा, एस आई चेतन शर्मा, एस आई भावना राठोड, एएसआई आर. एस. चौकोटिया, एएसआई कमल सिंह बंजारा, एएसआई सुबोध टोप्पो, HC प्रभावती लोधी, आरक्षक भोला सिंह राजावत, प्रहलाद सिंह यादव, सोनू पाण्डेय, देवेश तोमर की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। घटना के खुलासे पर IGP ग्वालियर ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए टीम को नगद 30 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की है।

परिवार जन भी शामिल थे
सघन पड़ताल के दौरान पुलिस के सामने आया कि फरियादी जहार सिंह के भतीजे जवान सिंह के साले महेश गुर्जर निवासी ग्राम छिरारी ने पास में रहने वाले रविन्द्र वंशकार, कीरत जोशी, पप्पू सोनी निवासी करैरा के माध्यम से झांसी के बदमाशान पंकज गोस्वामी, राज कोरी उर्फ तुत्तल को बुलाकर डकैती की घटना को अंजाम दिया था।