सामूहिक कन्या विवाह आयोजन में सीएम की फोटो गायब, कांग्रेस ने जताई आपत्ति

CM's-photos-not-found-in-banner-of-kanya-vivah-Congress-expresses-objection

सिंगरौली//राघवेन्द्र सिंह|  जनपद पंचायत बैढन में 27 जून को मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह का आयोजन किया गया| लेकिन यह आयोजन अब विवादों में है| प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है और मुख्यमंत्री कमलनाथ है, जिन्होंने मुख्यमंत्री कन्या विवाह में मिलने वाली राशि 21 हजार से बढ़ाकर 51 हजार कर दी| लेकिन सिंगरौली जिले में आयोजित मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह में बैनर और पोस्टर से मुख्यमंत्री का फोटो ही गायब दिखाई दिया|  सूत्रों की माने तो मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह में किसी भी कांग्रेस के नेताओं को जिला प्रशासन और जनपद CEO सुलभ सिंह पोषाम के द्वारा नही बुलाया गया वही इस विवाह में नीचे से लेकर ऊपर मंच तक भाजपाई नेता दिखाई दिए| जिसको लेकर कांग्रेस ने आपत्ति जताई है| 

मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह में मुख्यमंत्री कमलनाथ का फोटो न होने पर कांग्रेसियों में आक्रोश व्याप्त है वही कांग्रेस के नेता इस मुद्दे को लेकर जिला प्रशासन ,SDM और जनपद सीईओ की शिकायत मुख्यमंत्री कमलनाथ से करने वाले है| कांग्रेस ने जनपद CEO सुलभ सिंह पोषाम पर भाजपा के एजेन्ट बनकर काम करने के आरोप लगाए हैं|


भाजपा के एजेन्ट है जनपद CEO सुलभ सिंह पोषाम – रामनिवास तिवारी

जिला कांग्रेस आई टी सेल के जिला अध्यक्ष रामनिवास तिवारी ने मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह में मुख्यमंत्री कमलनाथ का बैनर व पोस्टर में फ़ोटो न लगाये जाने और किसी भी कांग्रेसी नेता को सामूहिक विवाह में न बुलाने पर कहा है कि जनपद सीईओ सुलभ सिंह पोषाम के द्वारा मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस पार्टी का अपमान किया वही तिवारी जी ने जनपद सीईओ सुलभ सिंह पर भाजपा का एजेंट होने का आरोप लगाते हुए कहा है जनपद सीईओ के द्वारा जानबूझकर मुख्यमंत्री का फोटो बैनर व पोस्टर में गायब करवा गया वही जिले में किसी भी कांग्रेसी नेता को नही बुलाया गया जबकि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह की राशि 21 हजार से बढ़ाकर 51 हजार रुपये कांग्रेस सरकार के द्वारा लागू किया गया है वही जनपद सीईओ के द्वारा सभी भाजपाइयों को विवाह में सम्मिलित होने के लिए बुलाया गया|

वही जिला कांग्रेस आई टी सेल के जिला अध्यक्ष ने कहा है कि जनपद सीईओ के द्वारा सरकार की योजनाओं को हितग्राहियो के देने के बदले उनसे जनपद पंचायत के बाबू आशुतोष तिवारी के द्वारा उगाही का काम करवाया जा रहा है जब कोई हितग्राही कर्मकार्ड बनवाने जाता है तो जनपद सीईओ के अनुसंशा पर बाबू आशुतोष तिवारी के द्वारा 4 हजार से 5 हजार रुपये वसूला जा रहा है वही जिन लोगो का कर्मकार्ड बना हुआ है मुख्यमंत्री कन्या विवाह की राशि खाते में डालने से पहले लड़की के अभिभावकों से पहले ही 10 हजार रुपये वसूली की गई है वही आगे उन्होंने कहा कि अंत्योष्टि राशि मे भी सीईओ और बाबू के द्वारा जमकर उगाही किया जा रहा है|