भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (madhya pradesh congress president & former chief minister kamalnath) ने डबरा विधानसभा (dabra assembaly) में चुनाव प्रचार के दौरान मध्यप्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री (women & child devlopment minister) और डबरा विधानसभा से बीजेपी के प्रत्याशी इमरती देवी (bjp candidete from dabra assembaly imarti devi) का नाम लिए बिना उन्हें आइटम (item) कहने वाले बयान पर कहा है कि मैंने जो कहा था उस पर तो जनता ने तालियां बजाई थी और जनता खुश हुई थी। फिर चुनाव आयोग (election commission) ऐसी कार्रवाई क्यों कर रहा है।

एक निजी चैनल से बातचीत में कमलनाथ ने यह बयान दिया है। दरअसल डबरा विधानसभा में दिए गए कमलनाथ के इस बयान के बाद पूरे देश भर में इस बयान को लेकर बवाल मच गया था और खुद कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी (former congress president rahul gandhi) ने कमलनाथ के इस बयान को गलत बताया था ।लेकिन कमलनाथ ने इसे राहुल गांधी की व्यक्तिगत राय कहकर खारिज कर दिया था।

Read More: विवेक तंखा का बयान- चुनाव आयोग के खिलाफ कांग्रेस जाएगी सुप्रीम कोर्ट, फैसला अलोकतांत्रिक

शनिवार को चुनाव आयोग ने कमलनाथ के खिलाफ इस शब्द बोलने पर कड़ी कार्रवाई करते हुए उनका स्टार प्रचारक का दर्जा छीन लिया था। जिसके बाद एक निजी चैनल से बातचीत में कमलनाथ ने यह बात कही। कमलनाथ के इस बयान के बाद अब बीजेपी ने कमलनाथ के खिलाफ एक बार फिर मोर्चा खोल दिया है। बीजेपी नेता राहुल कोठारी का कहना है कि इमरती देवी के अपमान पर अपनी पीठ थपथपा कर कमलनाथ खुश हो रहे हैं। अब नारी शक्ति को जाग्रत होकर उनको सबक सिखाना चाहिए।

कमलनाथ के इस ताजा बयान के बाद में अब विवाद एक बार फिर सियासी हलकों में तेजी के साथ चलेगा, इस संभावना से इनकार नहीं किया जाता ।ऐसे समय जब आप चुनाव प्रचार अंतिम दौर में हैं और हर राजनीतिक दल अपनी पूरी ताकत चुनाव जीतने में लगाए हुए हैं, कमलनाथ के इस बयान के क्या मायने हैं, समझ से परे है।