MP उपचुनाव : बीजेपी उम्मीदवार नारायण पटेल का ग्रामीणों ने किया विरोध, प्रचार छोड़ वापस लौटे

सीवर के गुस्साए युवाओं को नारायण पटेल ने समझाने का बहुत प्रयास किया। किंतु ग्रामीण बीजेपी प्रत्याशी नारायण पटेल के सामने ही निर्दलीय प्रत्याशी के पक्ष में नारे लगाने लगे। जिसके बाद ग्रामीणों के बढ़ते विरोध को देखते हुए भाजपा प्रत्याशी नारायण पटेल को प्रचार अभियान को बीच में ही छोड़कर वापस लौटना पड़ा।

खंडवा, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya pradesh) के चुनाव प्रचार (Election Campaign) में लगातार कांग्रेस (congress) से बागी होकर बीजेपी (bjp) में शामिल हुए नेताओं का विरोध देखने को मिल रहा है। जहाँ लगातार पार्टी और प्रत्याशी को जनता खरी-खोटी सुना रही है। रविवार को मांधाता विधानसभा सीट (Mandhata Assembly Seat) पर भाजपा प्रत्याशी नारायण पटेल (Narayan patel) के साथ भी कुछ ऐसा देखने को मिला। उन्हें ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा।

दरअसल रविवार को भाजपा प्रत्याशी नारायण पटेल (BJP candidate Narayan Patel) को उन्हीं की विधानसभा में विरोध का सामना करना पड़ा। नारायण पटेल जनसंवाद कर भाजपा के पक्ष में वोट देने की अपील करने मांधाता के सीवर और फेफरिया के ग्रामीण क्षेत्र में पहुंचे थे। जहां ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने भाजपा प्रत्याशी से पूछा कि पहले कांग्रेस पार्टी में सुनवाई नहीं हुई तो आपने पार्टी छोड़ दी। अब अगर बीजेपी में सुनवाई नहीं होगी तो कहां जाएंगे? इसके साथ ही ग्रामीणों ने पूछा कि आपने हमसे कई तरह के वादे किए थे। उन वादों का क्या होगा?

Read More: MP उपचुनाव 2020 : ग्वालियर हाईकोर्ट के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

हालांकि सीवर के गुस्साए युवाओं को नारायण पटेल ने समझाने का बहुत प्रयास किया। किंतु ग्रामीण बीजेपी प्रत्याशी नारायण पटेल के सामने ही निर्दलीय प्रत्याशी के पक्ष में नारे लगाने लगे। जिसके बाद ग्रामीणों के बढ़ते विरोध को देखते हुए भाजपा प्रत्याशी नारायण पटेल को प्रचार अभियान को बीच में ही छोड़कर वापस लौटना पड़ा।

हालांकि यह पहली बार नहीं है जब नारायण पटेल को उनके क्षेत्र में विरोध का सामना करना पड़ा है। इससे पहले भी एक बार मंच जनसंवाद करते हुए खंडवा के सांसद नंदकुमार सिंह चौहान के सामने ही ग्रामीणों ने नारायण पटेल का विरोध किया था। कांग्रेस का हाथ छोड़ बीजेपी में शामिल होने के बाद से ही नारायण पटेल को ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। वही भाजपा प्रत्याशी ग्रामीणों के सवाल से बचते भी नजर आ रहे हैं। ऐसे में इस सीट पर 3 नवंबर कोहोन वाले चुनाव दिलचस्प होने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here