खुशखबरी: कर्मचारियों के डीए में 5% वृद्धि, सीएम ने की घोषणा, इतना होगा सैलरी में इजाफा

कर्मचारियों

रायपुर, डेस्क रिपोर्ट। छत्तीसगढ़ के कर्मचारियों (Government Employee)  को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बड़ी सौगात दी है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 5 प्रतिशत महंगाई भत्ते बढ़ाने का ऐलान किया है, इससे प्रदेश के 4 लाख सरकारी कर्मचारियों और 1.25 लाख पेंशनरों को लाभ होगा।इससे सरकार पर 1020 करोड़ रुपए का सालाना भार आएगा।हालांकि कर्मचारी केंद्र के समान 28 फीसदी डीए की मांग कर रहे थे।

यह भी पढ़े.. Tokyo Paralympics 2020 : डीएम सुहास ने सिल्वर जीत रचा इतिहास, CM ने दी बधाई

दरअसल, केंद्र सरकार द्वारा केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 28 फीसदी (7 Pay Commission) बढ़ाए जाने के बाद से ही छत्तीसगढ़ के कर्मचारी (Chhattisgarh Government Employee)  28 फीसदी डीए की मांग रहे थे और इसके लिए लामबंद होकर आंदोलनरत थे और आगे भी अनिश्चितकालीन तक आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दे रहे थे। इसी बीच शनिवार देर शाम मुख्यमंत्री ने 5 प्रतिशत डीए बढ़ाने की घोषणा कर दी।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को शासकीय सेवकों और पेंशनरों के महंगाई भत्ते (DA Hike) में 5 फीसदी वृद्धि करने की घोषणा की है। इसका लाभ 1 जुलाई 2021 से मिलेगा। अब कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 12 से बढ़कर 17 फीसदी हो जाएगा। इससे छत्तीसगढ़ के लगभग 4 लाख शासकीय सेवकों और 1 लाख 25 हजार पेंशनरों को लाभ होगा। वही सीएम बघेल ने अधिकारियों-कर्मचारियों के महंगाई भत्ते के बकाया एरियर्स की मांग का परीक्षण कराकर शीघ्र निर्णय लेने का आश्वासन दिया। इसके लिए प्रमुख सचिव स्तर के अधिकारी की अध्यक्षता में कमेटी गठित की जाएगी

यह भी पढ़े.. MP: 2 कर्मचारी निलंबित, 1 आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की सेवा समाप्त, 16 को थमाया नोटिस

बता दे कि छत्तीसगढ़ कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन (Chhattisgarh Employees-Officers Federation) का आऱोप था कि केन्द्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता बढ़कर 17 से 28 प्रतिशत हो गया है, जबकि छत्तीसगढ़ राज्य के शासकीय सेवकों और पेंशनरों को 1 जनवरी 2019 से मात्र 12 प्रतिशत महंगाई भत्ता मिल रहा है, राज्य के कर्मचारी केन्द्रीय कर्मचारियों से 16 प्रतिशत पीछे हो गए है, इस कारण प्रतिमाह के वेतन में 4-5 हजार रुपए का नुकसान हो रहा है।इसको लेकर लगातार धरना प्रदर्शन भी कर रहे थे।

ऐसे होगा फायदा

  • राजपात्रित अधिकारियों को- 3500 से 5000 रुपए
  • तृतीय वर्ग कर्मचारियों को- 1500 से 3500 रुपए
  • चतुर्थ वर्ग के कर्मचारियों को- 700 से 2000 रुपए