आगामी चुनावों से पहले बड़ा झटका, कांग्रेस विधायक राजकुमार बीजेपी में शामिल

कांग्रेस विधायक

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव (Uttarakhand Assembly Elections) से पहले सियासी हलचल तेज हो चली है और दल बदल का सिलसिला भी जारी है। निर्दलीय विधायक प्रीतम सिंह पंवार के बाद अब कांग्रेस विधायक राजकुमार (Congress MLA Rajkumar) बीजेपी में शामिल हो गए। नई दिल्ली में बीजेपी के केंद्रीय कार्यालय सीएम पुष्कर सिंह धामी और केद्रीय मंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी की मौजूदगी में उन्होंने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की।

यह भी पढ़े.. बैतूल कलेक्टर की दो टूक-निकम्मे कर्मचारी होंगे दंडित, पटवारी भी होंगे बर्खास्त

दरअसल, हाल ही में निर्दलीय विधायक प्रीतम सिंह पंवार भाजपा (Uttarakhand BJP) में शामिल हुए थे। इसके बाद से ही दावा किया जा रहा है कई विधायक बीजेपी के संपर्क में है। इसी कड़ी में अब उत्तरकाशी जिले की सुरक्षित सीट पुरोला विधानसभा से कांग्रेस विधायक राजकुमार की बीजेपी में शामिल हो गए है। हालांकि इसे राजकुमार की घर वापसी कहा जा रहा है, क्योंकि पहले वे बीजेपी में ही थे लेकिन नाराजगी के चलते कांग्रेस में चले गए थे, लेकिन फिर से बीजेपी में शामिल हो गए है।

वैसे राजकुमार को शनिवार को भाजपा में शामिल होना था, लेकिन सीएम पुष्कर सिंह धामी (CM Pushkar Singh Dhami) के टिहरी दौरे के चलते कार्यक्रम टल गया था।वहीं, कांग्रेस नेताओं ने राजकुमार को मनाने के लिए संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन उनका फोन नहीं लग पाया।कांग्रेस विधायक (Uttarakhand Congress) का बीजेपी में शामिल होने को बड़ा झटका माना जा रहा है, क्योंकि आने वाले साल में उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव होना है और कांग्रेस विधायक राजकुमार के बीजेपी में शामिल होने से मजबूती मिलेगी।

यह भी पढ़े.. भाजपा प्रदेश प्रभारी की अचानक तबीयत बिगड़ी, कार्यक्रम छोड़ दिल्ली रवाना

बता दे कि राजकुमार वर्ष 2007 में पहली बार सहसपुर सुरक्षित सीट से भाजपा के टिकट पर विधायक चुने गए। वर्ष 2012 में उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा और हार गए। 2017 में वह कांग्रेस में गए थे और पुरोला सीट से विधायक बने है।शुक्रवार को ही लैंसडौन से भाजपा विधायक (Uttarakhand BJP MLA) दिलीप रावत ने दावा किया था कि पार्टी नेताओं के संपर्क में कांग्रेस समेत कुल तीन विधायक हैं, जिन्हें जल्द भाजपा में शामिल किया जाएगा।उधर राजकुमार के बीजेपी में शामिल होते ही विधायकी खतरें में पड़ सकती है और कांग्रेस उत्तराखंड़ विधानसभा में दल बदल विरोधी कानून के तहत राजकुमार को अयोग्य ठहराने की अपील कर सकती है।