बोम्मई के मंत्री ईश्वरप्पा देंगे इस्तीफा, प्रेस कांफ्रेंस कर दी यह जानकारी

मंत्री ईश्वरप्पा उनसे काम के बदले 40 प्रतिशत कमीशन मांग रहे हैं।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। कर्नाटक से एक बड़ी खबर आ रही है कि बसवराज बोम्मई सरकार के मंत्री केएस ईश्वरप्पा (ks eshwarappa) कल यानी शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं। बताया जा रहा है कि उनके खिलाफ उडुपी पुलिस द्वारा सरकारी परियोजनाओं में शामिल एक ठेकेदार की मौत (Contractor death case) की कथित आत्महत्या मामले के बाद चर्चा में आए मंत्री ईश्वरप्पा ने गुरुवार को कहा कि वह कल मुख्यमंत्री को अपना इस्तीफा दें देंगे। इससे पहले कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई (Basavaraj Bommai) ने कहा कि विवादो में घिरे मंत्री ईश्वरप्पा फिलहाल सरकार में बने रहेंगे।

यह भी पढ़े…आलिया भट्ट का ब्राइडल लुक दिखा सबसे अलग, जानिए कैसे पा सकते हैं ऐसा सिंपल यट ब्यूटीफुल स्टाइल

आपको बता दें कि ठेकेदार संतोष पाटिल सोमवार को उडुपी जिले में मृत पाए गए थे। जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर जाँच शुरू की, जिसमे बताया गया कि मौत से कुछ देर पहले उन्होंने अपने एक साथी को मैसेज किया था। जिसमें संतोष पाटिल ने अपनी मौत के लिए मंत्री केएस ईश्वरप्पा को जिम्मेदार ठहराया था। विवादों में घिरने के बाद अब मंत्री ईश्वरप्पा ने कहा कि वह शुक्रवार को सीएम को अपना इस्तीफा सौंप देंगे और कहा कि सहयोग के लिए सभी साथियों का शुक्रिया अदा करता हूं।

यह भी पढ़े…खरगोन दंगा पीड़ितों के लिए जारी हुआ व्हाॅटसअप नंबर और फार्म

पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, उडुपी में एक सिविल ठेकेदार की मौत पर ईश्वरप्पा के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया है। ईश्वरप्पा को इस मामले में पहला आरोपी बनाया गया था। प्राथमिकी मंगलवार रात को संतोष पाटिल के भाई प्रशांत पाटिल की शिकायत के बाद दर्ज की गई थी। संतोष पाटिल ने मंत्री के खिलाफ रिश्वत मांगने के आरोप लगाए थे। पाटिल मंगलवार को उडुपी के एक लॉज में मृत पाए गए थे। प्रशांत की शिकायत में मंत्री ईश्वरप्पा और उनके स्टाफ सदस्यों रमेश और बसवराज को आरोपी बनाया गया है।

यह भी पढ़े…Government Job 2022 : मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर में 304 पदों पर निकली भर्ती, जानें आयु-पात्रता, 18 अप्रैल से पहले करें अप्लाई

गौरतलब है कि मंत्री ईश्वरप्पा ने इस्तीफे की जानकारी प्रेस कांफ्रेंस करके दी है जानकारी के अनुसार ठेकेदार संतोष पाटिल ने अपने मौत से कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री को भी पत्र लिखा था और उसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि मंत्री ईश्वरप्पा उनसे काम के बदले 40 प्रतिशत कमीशन मांग रहे हैं। संतोष पाटिल के इन आरोपों को मंत्री ने सिरे से खारिज कर दिया।