Char Dham Yatra 2024: चार धाम यात्रा के लिए उमड़ी श्रद्धालुओं की भारी भीड़, 31 मई तक नहीं होंगे वीआईपी दर्शन, वीडियोग्राफी पर लगी रोक

हर साल चार धाम यात्रा करने का जोश श्रद्धालुओं में देखते ही बनता है। यह जोश इस साल दोगुना दिखाई दे रहा है और बड़ी संख्या में लोग दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं, जिससे व्यवस्था गड़बड़ा रही है।

Char dham Yatra 2024

Char Dham Yatra 2024: चार धाम यात्रा की जब से शुरुआत हुई है तब से भारी संख्या में यात्रियों की भीड़ दर्शन करने के लिए पहुंच रही है। भीड़ का यह आंकड़ा इतना ज्यादा हो चुका है कि उत्तराखंड प्रशासन परेशानियों में घिरा हुआ नजर आ रहा है।

श्रद्धालुओं की लगातार बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए वीआईपी दर्शन का प्रतिबंध 31 मई तक बढ़ा दिया गया है इतना ही नहीं यहां पर वीडियो शूटिंग करने रील बनाने पर भी रोक लगा दी गई है। प्रशासन द्वारा श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी ना हो इसके चलते यह निर्णय लिए गए हैं। अभी चारधाम यात्रा को शुरू हुए केवल 7 दिन हुए हैं लेकिन भारी संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंच चुके हैं, जिस वजह से व्यवस्था गड़बड़ा गई है।

लगातार व्यवस्था बना रहा प्रशासन

निश्चित संख्या से ज्यादा संख्या में श्रद्धालु चार धाम यात्रा की शुरुआत होते ही दर्शन करने के लिए पहुंच चुके हैं। यही कारण है कि भारी भीड़ देखने को मिल रही है। इसे देखते हुए उत्तराखंड प्रशासन लगातार व्यवस्थाएं बनाने में जुटा हुआ है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी खुद हालातों पर नजर बनाए हुए हैं और लगातार बैठकों का दौर जारी है। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद मुख्य सचिव राधा रतूड़ी की ओर से एक लेटर सभी राज्यों के मुख्य सचिव को लिखा गया है। इस लेटर में VIP दर्शन की सुविधा का प्रतिबंध 31 मई तक बढ़ाए जाने और प्रशासन द्वारा लिए गए अन्य निर्णय की जानकारी दी गई है।

लिए गए ये निर्णय

मुख्य सचिव की ओर से सभी राज्यों को जो पत्र लिखा गया है उसमें या अनुरोध किया गया है कि अनिवार्य पंजीकरण की व्यवस्था यात्रा के लिए की गई है। अब जो नए नियम बनाए गए हैं उसके मुताबिक फिलहाल VIP दर्शन की व्यवस्था 31 मई तक बंद कर दी गई है और इसी के साथ मंदिर के 50 मीटर के दायरे में कोई भी श्रद्धालु वीडियोग्राफी नहीं करेगा। अक्सर लोगों को सोशल मीडिया पर डालने के लिए रील बनाते हुए देखा जाता है। लोग तो मंदिर परिसर के बाहर खड़े होकर रील बनाने लगते हैं। लेकिन उन्हें देखने के लिए वहां अन्य लोगों की भीड़ लग जाती है। जिसकी वजह से व्यवस्था गड़बड़ा जाती है। इसी को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। मंदिर के 50 मीटर के दायरे के अंदर अब यह नहीं हो पाएगा। चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की एक क्षमता निर्धारित की गई है। उसी के अनुसार श्रद्धालुओं को दर्शन के लिए भेजा जाएगा।


About Author
Diksha Bhanupriy

Diksha Bhanupriy

"पत्रकारिता का मुख्य काम है, लोकहित की महत्वपूर्ण जानकारी जुटाना और उस जानकारी को संदर्भ के साथ इस तरह रखना कि हम उसका इस्तेमाल मनुष्य की स्थिति सुधारने में कर सकें।” इसी उद्देश्य के साथ मैं पिछले 10 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में काम कर रही हूं। मुझे डिजिटल से लेकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का अनुभव है।मैं कॉपी राइटिंग, वेब कॉन्टेंट राइटिंग करना जानती हूं। मेरे पसंदीदा विषय दैनिक अपडेट, मनोरंजन और जीवनशैली समेत अन्य विषयों से संबंधित है।

Other Latest News