CM की बड़ी घोषणा- राज्य में भी लागू होगी पुरानी पेंशन योजना, लाखों कर्मचारियों को होगा लाभ

सोरेन ने विधानसभा में कहा की हम बहुत जल्द राज्य में पुरानी पेंशन योजना को लागू करने जा रहे हैं।

pension

रांची, डेस्क रिपोर्ट।Old pension scheme. झारखंड के सरकारी कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी है। राजस्थान और छत्तीसगढ़ के बाद झारखंड में बहुत जल्द पुरानी पेंशन योजना लागू होने वाली है। इस बात के संकेत खुद झारखंड सीएम हेमंत सोरेन ने दिए है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन (Jharkhand CM Hemant Soren) ने झारखंड विधानसभा में पुरानी पेंशन योजना (Old pension scheme in Jharkhand) को फिर से बहाल किए जाने के संकेत दिए हैं।उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार जल्द पुरानी पेंशन योजना लागू करेगी, अन्य राज्य अभी इसपर सोच ही रहे है।

यह भी पढ़े.. 29 मार्च को पीएम मोदी मध्य प्रदेश के 5.21 लाख हितग्राहियों को देंगे तोहफा, ऐसा रहेगा कार्यक्रम

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक,  सोरेन ने विधानसभा में कहा की हम बहुत जल्द राज्य में पुरानी पेंशन योजना को लागू करने जा रहे हैं।राज्य में सत्ताधारी और विपक्षी दलों के विधायक पुरानी पेंशन योजना को फिर से शुरू करने की मांग कर रहे हैं। सरकारी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना एक अप्रैल 2004 से बंद कर दी गई थी और नई राष्ट्रीय पेंशन योजना (NPS) लागू की गई थी।बीते दिनों सीएम हेमंत सोरेन ने कहा था कि फिलहाल प्रदेश में पुरानी पेंशन योजना को लेकर कोई भी कार्य विधि संचालित नहीं की जा रही है। प्रतिनिधिमंडल की मांग पर विचार किया जा रहा है, जिसके बाद फैसला लिया जा सकते हैं।लेकिन अब विधानसभा सत्र में सीएम ने साफ कर दिया है कि जल्द ही पुरानी पेंशन योजना लागू की जाएगी।

यह भी पढ़े.. MPPEB: उम्मीदवारों को बड़ी राहत, कर्मचारी चयन बोर्ड ने इस भर्ती परीक्षा की आवेदन तिथि बढ़ाई

बता दे कि झारखंड में साल 2004 से अंशदायी पेंशन योजना लागू है और नियमित सरकारी कर्मचारी-अधिकारी पेंशन के तहत आते हैं।वर्तमान में 1 लाख 95 हजार स्थाई कर्मचारी अधिकारी हैं।इसमें 1 लाख 25 हजार नई पेंशन स्कीम के दायरे के लोग हैं, जो 2004 में लागू अंशदायी नई पेंशन स्कीम के बाद बहाल किए गए हैं, इन्हें अब पुरानी पेंशन योजना का सीधा लाभ मिलेगा। वही अब भविष्य में जो भी बहाल होंगे, उन्हें भी इसका लाभ होगा। इस समय करीब 70 हजार स्थाई राज्यकर्मी ही पुरानी पेंशन स्कीम के तहत हैं।खास बात ये है कि  2019 के चुनावी घोषणा पत्र में झामुमो ने पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने का वादा किया था, जिसे अब सरकार पूरा करने जा रहा है।