मिलावट को लेकर सरकार सख्त, FSSAI ने सभी राज्यों के लिए जारी किए निर्देश, फ्री में होंगी जांच, आमजन को होगा लाभ

FSSAI Action Against Milk Adulteration: होली का समय है। एक तरफ जहां पूरे देश में त्योहार का उल्लास है। वहीं दूसरी तरफ मिलावट के कई मामले भी सामने आए हैं। दूध से बने पदार्थों में ऊंचे स्तर पर मिलावट देखी जा रही। इनमें मौजूद केमिकल मानव शरीर के लिए बहुत हानिकारक माने जाते हैं। इन समस्याओं को मद्देनजर रखते हुए भारत सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। होली से पहले फूड सेफ़्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) ने सभी राज्यों और केंद्र शासित केंद्रों को नए निर्देश जारी किये हैं।

फ्री में होगी दूध की जांच

यह निर्णय एफएसएसएआई ने दूध और इससे बने खाद्य पदार्थ में हो रहे मिलावट को देखते हुए लिया है। निर्देशानुसार बाजारों में मोबाइल फूड टेस्टिंग वैन (Mobile Food Testing Van) लगाने के निर्देश जारी हुए हैं। 6 मार्च 2023 सोमवार से बाजार नें फूड टेस्टिंग वाहनों को लगाया जाएगा। आम जन इस सुविधा का लाभ उठाते हुए दूध की जांच करवा सकते हैं। प्रत्येक वैन में न्यूनतम 10 टेस्टिंग अनिवार्य होगी। टेस्टिंग के लिए किसी प्रकार का चार्ज नहीं लगाया जाएगा, यह प्रक्रिया पूर्ण रूप से मुफ़्त होगी।

फूड टेस्टिंग वैन में उपलब्ध होंगी ये सुविधाएं

इन टेस्टिंग वाहनों को अलग-अलग तरह ही सुविधाएं उपलब्ध होंगी। FSWs में मिल्क-ओ-सक्रीन के जरिए दूध में मौजूद फैट की जांच होगी। वहीं प्रोटीन, पानी, सूक्रोज, अमोनियम सल्फेट, माल्टोडेक्सटेरिन और सालिड नॉन फैट जैसे मिलावटी पदार्थों की जांच भी की जाएगी। बता दें कि जहां वैन नहीं होंगे उन स्थानों पर अन्य मोबाइल यूनिट को लगाने की अनुमति दी गई है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News