IMD Alert: आज अंडमान-निकोबार पहुंचेगा मानसून! 18 राज्यों में 17 मई तक बारिश का अलर्ट, इन राज्यों में लू की चेतावनी

आज 15 मई रविवार को दक्षिण-पश्चिम मानसून के आसपास दक्षिण अंडमान सागर और निकटवर्ती दक्षिणपूर्वी खाड़ी में पहुंचने की संभावना है

imd weather alert

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट।IMD Alert Today. देशभर के मौसम में बदलाव का दौर जारी है।एक तरफ दिल्ली-पंजाब जैसे राज्यों में गर्मी का कहर बरप रहा है तो दूसरी तरफ साउथ के राज्यों में बारिश और प्री मानसून गतिविधियां तेज हो चली है। 16 मई से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के बाद मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा।  आने वाले अगले कुछ दिनों में जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान के मौसम के रंग बदल सकते है।

यह भी पढ़े.. 5400 कर्मचारियों के लिए गुड न्यूज, बोनस का ऐलान, खाते में आएंगे 3.86 लाख रुपये

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, इस साल मानसून समय से पहले दस्तक देने वाला है, ऐसे में आज 15 मई रविवार को दक्षिण-पश्चिम मानसून के आसपास दक्षिण अंडमान सागर और निकटवर्ती दक्षिणपूर्वी खाड़ी में पहुंचने की संभावना है और अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में मौसम की पहली बारिश होने की भी उम्मीद है।वही 4 दिन पहले 27 मई को मानसून के केरल पहुंचने के आसार है, इसके लिए लगातार संकेत मिल रहे है।

भारतीय मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि  हिमाचल प्रदेश से लेकर उत्तर प्रदेश तक कई राज्यों में बारिश और आंधी-तूफान की संभावना जताई गई है। जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में 16 और 17 मई को तेज हवाओं के साथ गरज, बारिश और ओले गिरने के साथ उत्तर पंजाब और पूर्वी उत्तर प्रदेश में भी 16 और 17 मई को हल्की बारिश की संभावना है।

यह भी पढ़े.. CM शिवराज ने बुलाई सुबह बड़ी बैठक, अधिकारियों को दिए ये निर्देश, बोले-लापरवाही बर्दाश्त नहीं

IMD के अनुसार, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान में 16 मई को आंधी-तूफान और उत्तरी राजस्थान के कई इलाकों में 14 और 15 मई को 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से धूल भरी आंधी चल सकती है।दिल्ली में सोमवार को धूल भरी आंधी के साथ 17 मई को आंशिक बादल छाए रहेंगे और तापमान में 2 से 3 डिग्री की गिरावट हो सकती है। 20 मई से एक फिर से लू का प्रकोप देखने को मिल सकता है।

विभाग की मानें तो 15 मई यानी रविवार तक बिहार के 14 जिलों पूर्वी एवं पश्चिमी चंपारण, सीतामढ़ी, शिवहर, मधुबनी, सुपौल, अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, कटिहार, कैमूर, रोहतास, बक्सर और औरंगाबाद में गरज के साथ बारिश के आसार हैं।वही उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ़ में 17 और 18 मई को तेज हवाओं के साथ बारिश और बिजली गिरने की भी संभावना है।झारखंड के गुमला, सिमडेगा, दुमका, गिरिडीह, जामताड़ा, साहिबगंज, पाकुड़, देवघर एवं गोड्डा जिले 19 मई तक गरज चमक के साथ बारिश की संभावना है।

यह भी पढ़े.. मप्र नगरीय निकाय चुनाव: 6 जिलों के वार्ड परिसीमन का कार्यक्रम जारी, 10 जून को होगा आरक्षण

विभाग की मानें तो अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, केरल, लक्षद्वीप और तमिलनाडु और दक्षिण कर्नाटक के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है। उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम और तमिलनाडु के शेष हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। इसके अलावा गोवा, दक्षिण मध्य महाराष्ट्र, दक्षिण छत्तीसगढ़ और आंध्र प्रदेश, गोवा, मराठवाड़ा, तेलंगाना और पश्चिमी हिमालय के कुछ स्थानों पर हल्की बारिश के आसार है।

कहां कब आएगा मानसून

  • माना जा रहा है कि दिल्ली-एनसीआर में भी मानूसन जून के दूसरे सप्ताह में भी दस्तक दे सकता है।
  • बिहार में 13 से 15 जून के बीच मानसून की एंट्री होगी। अब तक का पूर्वानुमान बिहार में सामान्य या सामान्य से अधिक बारिश का है।
  • केरल में मानसून के आने के बाद राजस्थान तक इसे पहुंचने में औसतन 20 या 22 दिन का समय लगता है, ऐसे में संभावना है कि राजस्थान में मानसून समय से एक हफ्ता पहले यानि 16 से 18 जून के बीच आ सकता है।
  • छत्तीसगढ़ में इस बार मानसून के 7 जून तक पहुंचने के आसार है।
  • बंगाल की खाड़ी में उठे असानी साइक्लोन के चलते इस बार 16 मई से मध्यप्रदेश में भी प्री-मानसून की गतिविधियां शुरू हो सकती है।
  • इस बार मानसून भोपाल, इंदौर, नर्मदापुरम और उज्जैन संभागों में ज्यादा मेहरबान रहेगा। जबलपुर और सागर संभाग में यह सामान्य रहेगा। ।मानसून के मध्यप्रदेश में 15 से 16 जून तक आने की संभावना है। भोपाल में यह 20 जून के आसपास पहुंचेगा।