ओमिक्रोन : केंद्र सरकार ने छह राज्यों को लिखे पत्र, बढ़ते मामलों पर जताई चिंता

डेस्क रिपोर्ट। कोरोना संक्रमण झेल रही पूरी दुनिया अभी इससे पूरी तरह उबरी भी नहीं कि ओमिक्रोन ने फिर एक बार सबको चिंता में डाल दिया है, भारत में भी कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के सामने आने के बाद सरकार हरकत में आ गई है। केंद्र सरकार इस मसले पर राज्‍यों को पहले ही अलर्ट रहने के निर्देश दे दिए थे, इसके साथ ही केंद्र सरकार राज्य सरकारों के साथ लगातार संपर्क बनाए हुए है और मामलों पर करीबी नजर रख रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को छह राज्‍यों को पत्र लिखकर कोरोना के मामलों पर आगाह किया है। साथ ही संक्रमण की रोकथाम के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने चिट्ठी लिखकर इन राज्‍यों में कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता जताई है। केंद्र के स्वास्थ्य मंत्रालय ने तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल, ओडिशा, मिजोरम और जम्मू-कश्मीर, को पत्र लिखकर कोरोना के बढ़ते मामलों को काबू करने के लिए टेस्टिंग, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट के साथ साथ ज्‍यादा से ज्‍यादा टीकाकरण करने के निर्देश दिए हैं। ईन राज्यों के जिलों में लगातार कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी हुई है।

प्रदेश के एक IAS अधिकारी पाज़िटिव, कुछ दिन पहले ही गए थे राज्य से बाहर

आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो  कर्नाटक राज्‍य में तीन दिसंबर तक एक महीने के भीतर कोरोना के 8073 नए केस सामने आए हैं। राज्य में साप्ताहिक नए मामलों में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। साथ ही राज्‍य में साप्ताहिक मौतों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है और यह 22 से बढ़कर 29 हो गई है। वही  केरल में तीन दिसंबर तक एक महीने में कोरोना के 1,71,521 नए केस आए जो पिछले महीने देश में नए मामलों का 55.8 फीसद है। जम्मू-कश्मीर में तीन दिसंबर तक 4806 नए मामले सामने आए। बारामूला, कठुआ, जम्मू, गांदेरबल में पिछले हफ्ते की तुलना में कोरोना के नए केस में बढ़ोतरी हुई है। इस अवधि के दौरान तमिलनाडु में 23,764, ओडिशा में 7445 और मिजोरम में 12,562 नए मामले सामने आए हैं।

देश में बढ़ रहे कोरोना के नए वेरिएंट Omicron के मरीज, अबतक 4 मामलों की पुष्टि, जाने लक्षण

कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट के खतरे को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने शनिवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 27 नवंबर को लिखे पत्र का हवाला देते हुए कहा कि पहले ही सलाह दी जा चुकी है कि सभी राज्‍य अंतरराष्ट्रीय यात्रियों पर कड़ी नजर रखें और कोरोना के उभरते नए हाटस्पाट क्षेत्रों पर नजर बनाए रखें। साथ ही संक्रमित यात्रियों के संपर्क में आए लोगों का तुरंत पता लगाएं। संक्रमित अंतरराष्‍ट्रीय यात्रियों के नमूनों को जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजने के लिए भी कहा जा चुका है। यही नहीं कोरोना के मामलों की तुरंत पहचान करने और स्वास्थ्य ढांचे की तैयारियों की समीक्षा करने के निर्देश भी दिए गए हैं।