रेमडेसिवीर के लिए होना होगा गंभीर, निर्यात पर रोक, उत्पादन बढ़ाने की मंजूरी

केंद्र सरकार (government) ने हाल ही में रेमडेसिवीर के निर्यात (export) पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही इसकी कीमत कम करने और उत्पादन बढ़ाने की भी बात सामने आई है।

रेमडेसिवीर इंजेक्शन
रेमडेसिवीर इंजेक्शन

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश में कोरोना (corona) की विकराल स्थिति को देखते हुए रेमडेसिवीर इंजेक्शन (remdesivir injection) की मांग बहुत अधिक बढ़ गयी है। कोरोना की दूसरी लहर ने देश भर (nation wide) में हाहाकार मचा रखा है। रेमडेसिवीर की अत्यधिक बढ़ी हुई मांग (demand) को देख कर केंद्र सरकार (government) ने हाल ही में रेमडेसिवीर के निर्यात (export) पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही इसकी कीमत कम करने और उत्पादन बढ़ाने की भी बात सामने आई है।

यह भी पढ़ें… छतरपुर में कोरोना कर्फ्यू को लेकर प्रशासन सख्त, कलेक्टर और एसपी उतरे सड़कों पर

बता दें की आज ही मध्यप्रदेश के इंदौर एयरपोर्ट पर 9,264 रेमडेसिवीर के इंजेक्शन भेजे गए हैं। अब इन्हें प्रदेश के भोपाल, ग्वालियर, खण्डवा, रतलाम आदि शहरों में भेजा जाएगा। इंदौर पहुंचे रेमडेसिवीर के बॉक्स में से 42 बॉक्स इंदौर में ही रहेंगे, 39 बॉक्स जबलपुर भेजे जाएंगे 19 बॉक्स ग्वालियर तो वहीं 18 बॉक्स रीवा भेजे जाएंगे। इसके अलावा रेमडेसिवीर का कुछ स्टॉक रतलाम, सागर और खण्डवा भी भेजा जाएगा। वहीं सबसे ज़्यादा स्टॉक मध्य प्रदेश के सबसे बुरी तरह से कोरोना प्रभावित इंदौर शहर में ही रखा जाएगा।

यह भी पढ़ें… मुरैना: फीस मांगने पर बदमाशों ने युवक का किया अपहरण, मरणासन्न हालत में झाड़ियों में फेंका

बता दें कि पुणे के एक अस्पताल में रेमडेसिवीर इंजेक्शन न मिलने पर कई मरीजों के परिजनों ने कलेक्टर ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया। वहीं पुणे के एडिशनल कलेक्टर विजय देशमुख ने कहा कि वहां पर करीब 45,000 रेमडेसिवीर इन्जेक्शन की मांग है, जो स्टॉक मौजूद है उसका वितरण ज़रूरत पड़ने पर किया जा रहा है। उन्होंने चार-पांच दिनों में स्थिति कुछ बेहतर होने की भी बात कही और बताया कि कोविड प्रोटोकॉल का अनुसार सिर्फ गंभीर मरीजों को ही रेमडेसिवीर इंजेक्शन दिया जाएगा।