प्रशांत किशोर ने ठुकराया कांग्रेस का ऑफर, ये रही इसकी बड़ी वजह

उधर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी ट्वीट कर लिखा कि हम पार्टी के लिए उनके सुझावों और प्रयासों की सराहना करते हैं।  

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने कांग्रेस (Congress) का ऑफर ठुकराते हुए पार्टी को ज्वाइन करने से इंकार (PK refuses to join Congress) कर दिया। उन्होंने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।  उधर कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी ट्वीट कर इस बात की पुष्टि की कि प्रशांत किशोर कांग्रेस ज्वाइन नहीं कर रहे।

पिछले कुछ दिनों से प्रशांत किशोर और सोनिया गांधी के बीच चल रहे मुलाकातों (Sonia Gandhi Prashant Kishor meeting) के दौर से सियासत में चर्चा थी कि प्रशांत किशोर अगले चुनावों में कांग्रेस के खेवनहार होंगे और वो कांग्रेस ज्वाइन कर लेंगे। लेकिन आज प्रशांत किशोर ने एक ट्वीट कर इन अटकलों पर विराम लगा दिया।

ये भी पढ़ें – PM Kisan : लाखों हितग्राही किसान के लिए बड़ी खबर, शुरू हुई प्रक्रिया, खाते में जल्द पहुंचेंगे 11वीं किस्त के 2000 रूपए

प्रशांत किशोर ने अंग्रेजी में ट्वीट किया कि “मैंने कांग्रेस के उस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया (PK declined to Join Congress ) है जिसमें पार्टी ने मुझे EAG का हिस्सा बनने और चुनावों की जिम्मेदारी लेने के लिए कहा था। उन्होंने आगे लिखा कि मेरी राय में मुझसे ज्यादा पार्टी को एक लीडरशिप और सामूहिक इच्छाशक्ति की आवश्यकता है जो परिवर्तनकारी सुधारों के साथ पार्टी की जड़ों को मजबूत करे।

ये भी पढ़ें – IRCTC के इस स्पेशल टूर प्लान का फायदा उठाइये, दो धार्मिक स्थलों के दर्शन कीजिए

उधर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी ट्वीट कर प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल नहीं होने की पुष्टि की।  सुरजेवाला ने कहा कि प्रशांत किशोर द्वारा दिए गए एक प्रजेंटेशन के बाद सोनिया गांधी ने एम्पावर्ड एक्शन ग्रुप (EAG) का गठन किया था, कांग्रेस ने प्रशांत किशोर को इस ग्रुप में शामिल होने का ऑफर दिया था जिसे उन्होंने अस्वीकार कर दिया।  हम पार्टी के लिए उनके सुझावों और प्रयासों की सराहना करते हैं।

ये भी पढ़ें – RBI पर महंगाई का असर! जून तक महंगे हो सकते हैं बैंक लोन, रेपो रेट में हो सकती वृद्धि 

बहरहाल चर्चा ये भी है कि कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता प्रशांत किशोर में पार्टी में शामिल किये जाने पर आपत्ति जता चुके थे, कहा यहाँ तक जा रहा था कि प्रशांत किशोर महासचिव बनाये जा सकते हैं, लेकिन अंदरूनी विरोध के सुर के बाद सोनिया गांधी ने पार्टी नेताओं को स्पष्ट कर दिया था कि ये प्रशांत किशोर पर छोड़ दिया गया है कि वे प्रति में औपचारिक रूप से शामिल हो सकते हैं या पेशेवर रूप में।  लेकिन प्रशांत किशोर ने ऐसी किसी भी संभावनाओं से इनका कर दिया है।