Vastu Tips: बच्चों के कमरे में भूलकर भी ना रखें ये चीजें, पड़ता है बुरा असर, अपनाएं वास्तु के ये उपाय

Vastu Tips: वास्तु शास्त्र में कुछ ऐसी चीजें बताई गई हैं जिन्हें बच्चों के कमरे में नहीं रखना चाहिए। इससे उनपर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। ऐसे में जरूरी है कि आप वास्तु के नियमों का ध्यान रखें।

Vastu Tips: वास्तु शास्त्र में ऊर्जा का बहुत महत्व होता है। ये दो तरह की होती हैं सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा। अगर आपके घर में हर वस्तु वास्तु के अनुसार है तो इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है। वहीं वास्तु का दोष होने पर नकारात्मक ऊर्जा। ऐसे में वास्तु शास्त्र में घर के हर दिशा और कमरे के लिए खास नियम बताए गए हैं। वास्तु के अनुसार बच्चों के कमरे में रखीं कुछ चीजें उन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती हैं। इसके बारे में और विस्तार से जानते हैं।

  • बच्चों के कमरे में कभी भी टूटा-फूटा सामान नहीं रखना चाहिए जैसे- टूटे खिलौने, फर्नीचर या टूटे शीशे आदि। टूटा-फूटा सामान बच्चों के कमरे में रखने से नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है, इसलिए इसे कमरे से तुरंत हटा दें।
  • जितना हो सके बच्चों के कमरे में इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का प्रयोग कम से कम करें। बच्चों के कमरे में टीवी, कंप्यूटर या फिर अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण नहीं रखने चाहिए क्योंकि इससे निकलने वाले खतरनाक रेडिएशन बच्चों के सेहत पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं।
  • वास्तु के नियमों के अनुसार बच्चों के कमरे में कांटेदार पौधे नहीं रखने चाहिए। दरअसल कांटेदार पौधे नकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करते हैं। इससे बच्चों की सेहत को नुकसान भी पहुंच सकता है। अगर आप बच्चों के कमरे में पौधे रखना है तो हरे-भरे और सुगंधित पौधे रखें।
  • बच्चों के कमरे में कभी भी गहरे जैसे कि लाल, भूरे, और काले रंगों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। ये गहरे रंग नकारात्मक ऊर्जा और मानसिक तनाव बढ़ाते हैं। वहीं इसकी जगह आप बच्चों के कमरे में हल्के रंगों जैसे कि नीले, हरे, पीले और गुलाबी रंगों का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • वास्तु के अनुसार घर को हमेशा स्वच्छ रखना चाहिए खासतौर पर बच्चों के कमरे को। उसे हमेशा स्वच्छ और व्यवस्थित रहना चाहिए क्योंकि अव्यवस्था नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ावा देती है और इससे बच्चों में एकाग्रता की कमी होती है। साथ ही बच्चों को अपने खिलौने और किताबें को व्यवस्थित तरीके से रखना सिखाएं।
  • बच्चों के कमरे में ऐसे पोस्टर्स लगाने चाहिए जिनसे उन्हें प्रेरणा मिलती हो। इससे उनके अंदर भी सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है। इसके साथ ही बच्चों के कमरे में ऐसे चित्र या मूर्तियां नहीं रखनी चाहिए जिससे कि वो डर जाएं।
  • बच्चों के कमरे में रात में तेज रोशनी का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि तेज रोशनी की वजह से उनकी नींद में बाधा पड़ सकती हैं।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
Saumya Srivastava

Saumya Srivastava