Chanakya Niti: चाणक्य नीति के अनुसार इस व्यक्ति का मौन होता है घातक, जानें यहां

चाणक्य के उपदेशों को "चाणक्य नीति" कहा जाता है, जो काफी लोकप्रिय है। तो चलिए आज के आर्टिकल में हम आपको चाणक्य की नीतियों के बारे में बताएंगे। आइए जानते हैं विस्तार से...

Sanjucta Pandit
Published on -

Chanakya Niti : आचार्य चाणक्य भारतीय इतिहास के महान व्यक्तित्वों में से एक हैं। उन्हें भारतीय राजनीति और शास्त्रीय विचारधारा के प्रणेता माना जाता है। चाणक्य का असली नाम विष्णुगुप्त था। वे भारतीय इतिहास में अपने विचारधारा, नीतिशास्त्र और राजनीतिक कूटनीति के लिए प्रसिद्ध हैं। वे मौर्य साम्राज्य के सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य के प्रधान मंत्री और गुरु भी थे। उन्होंने सम्राट चंद्रगुप्त की मदद से भारत में विजयी सम्राट बनने में सहायता की थी और मौर्य साम्राज्य की स्थापना की थी। उनका जन्म 400 ईसा पूर्व माना गया है। जिन्होंने अपनी शिक्षा के आधार पर बहुत सी नीतियों की रचना की थी। बता दें कि वह लोगों के लिए गुरु भी है, जिन्हें कौटिल्य या फिर विष्णु गुप्त के नाम से भी जाना जाता है।उनके मार्गदर्शन पर चलने वाला हर एक व्यक्ति नेक और ईमानदार बनता है। दरअसल, चाणक्य नीति में उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा की है। इसमें राजनीति, व्यवसाय, धर्म, समाज और व्यक्तिगत विकास के सिद्धांतों को समाहित किया गया है। चाणक्य के उपदेशों को “चाणक्य नीति” कहा जाता है, जो काफी लोकप्रिय है। तो चलिए आज के आर्टिकल में हम आपको चाणक्य की नीतियों के बारे में बताएंगे। आइए जानते हैं विस्तार से…

Chanakya Niti: चाणक्य नीति के अनुसार इस व्यक्ति का मौन होता है घातक, जानें यहां

Continue Reading

About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।