Char Dham Yatra 2024 : 10 जून तक नहीं होंगे कोई VIP दर्शन, श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए लिया गया बड़ा फैसला

Char Dham Yatra 2024 : 10 मई को चार धाम यात्रा 2024 की शुरुआत हुई थी। अब तक कुल 13.84 लाख श्रद्धालु विभिन्न धामों के दर्शन कर चुके हैं।

Char Dham Yatra 2024 : चार धाम यात्रा को लेकर एक बड़ा अपडेट आया है। श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने वीआईपी दर्शन पर प्रतिबंध को और अधिक समय के लिए बढ़ा दिया है। जिसके बाद अब आम श्रद्धालु बिना किसी भेदभाव के चार धाम के दर्शन कर सकेंगे।

भीड़ की स्थिति:

चार धाम यात्रा 2024 की शुरुआत 10 मई को हुई थी और तब से लेकर अब तक तीर्थयात्रियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। पहले ही दिन से भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा है, जिससे व्यवस्थाओं को बनाए रखने में सरकार को कड़ी मेहनत करनी पड़ रही है। अब तक कुल 13.84 लाख श्रद्धालु विभिन्न धामों के दर्शन कर चुके हैं। इनमें केदारनाथ धाम में 5,70,465, यमुनोत्री धाम में 2,50,826, बदरीनाथ धाम में 3,20,773 और गंगोत्री धाम में 2,42,624 भक्त शामिल हैं।

VIP दर्शन पर प्रतिबंध:

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चार धाम यात्रा के दौरान वीआईपी दर्शन पर प्रतिबंध को 10 जून तक बढ़ाने का फैसला किया है। इससे पहले यह पाबंदी 25 मई तक थी, जिसे बाद में 31 मई तक बढ़ा दिया गया था। अब तीर्थयात्रियों की अत्यधिक भीड़ को देखते हुए यह प्रतिबंध 10 जून तक बढ़ा दिया गया है।

सरकार की सतत निगरानी:

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी यात्रा की व्यवस्थाओं की सतत निगरानी कर रहे हैं और समय-समय पर आवश्यक कदम उठा रहे हैं। यह निर्णय मुख्य सचिव द्वारा तीर्थयात्रियों की सुरक्षा और सुविधा को ध्यान में रखते हुए लिया गया है।

यह कदम चार धाम यात्रा को सुचारू रूप से संचालित करने और श्रद्धालुओं को बेहतर अनुभव देने के लिए उठाया गया है। आम श्रद्धालु अब बिना किसी रुकावट के अपने आराध्य देवताओं के दर्शन कर सकेंगे। सरकार के इस फैसले से यात्रा के दौरान व्यवस्थाओं में सुधार की उम्मीद है।


About Author
Rishabh Namdev

Rishabh Namdev

मैंने श्री वैष्णव विद्यापीठ विश्वविद्यालय इंदौर से जनसंचार एवं पत्रकारिता में स्नातक की पढ़ाई पूरी की है। मैं पत्रकारिता में आने वाले समय में अच्छे प्रदर्शन और कार्य अनुभव की आशा कर रहा हूं। मैंने अपने जीवन में काम करते हुए देश के निचले स्तर को गहराई से जाना है। जिसके चलते मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार बनने की इच्छा रखता हूं।