क्यों बांधा जाता है पेड़ों पर कलावा? जानें इसके पीछे का कारण और महत्व

Hindu Belief

Hindu Belief : हिंदू धर्म में पेड़ पौधों की पूजा करने का काफी ज्यादा महत्व माना गया है। अक्सर तीज त्योहार पर सबसे पहले पेड़ पौधों की पूजा की जाती है। इतना ही नहीं उस पर कलावा भी बांधा जाता है। आपने भी अक्सर पेड़ों पर कलावा बंधे हुए देखा होगा और यह भी सोचा होगा कि आखिर यह क्यों बांधा जाता है। इसके बांधने के पीछे की वजह क्या है? हाथ में तो अक्सर लोग कलावा बांधते हैं लेकिन पेड़ों पर इसे बांधना शुभ क्यों होता है? अगर आपके मन में भी ऐसे सवाल आते हैं तो आज हम आपको ज्योतिषों के अनुसार पेड़ों पर कलावा क्यों बांधा जाता है और उसका क्या महत्व है उसके बारे में बताने जा रहे हैं, तो चलिए जानते हैं –

पेड़ पौधों पर कलावा बांधने का महत्व

हिंदू धर्म के अनुसार कलावा बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। यह एक रक्षा सूत्र के तौर पर काम करता है। पेड़ पर कलावा बांधने से जीवन की तमाम समस्याएं खत्म होती है। इतना ही नहीं इसके कई फायदे भी होते हैं।

सुहाग की होती है रक्षा

ज्योतिषों का मानना है कि अगर बरगद के पेड़ पर पूजा करने के बाद कलावा बांधा जाता है तो इससे सुहाग की रक्षा होती है। इतना ही नहीं अकाल मृत्यु का डर भी टल जाता है।

हिंदू धर्म और शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि कुछ पेड़ पौधे ऐसे होते हैं जिनमें भगवान का वास होता है। जैसा कि सभी कहते हैं पीपल के पेड़ में ब्रह्मा, विष्णु और भगवान शिव सहित कई देवी देवताओं का वास होता है। इस वजह से इस पेड़ पर कलावा बांधना शुभ माना जाता है। कलवा बांधना कई समस्याओं से छुटकारा दिला सकता है।

ज्योतिषों के मुताबिक, पेड़ पौधों पर कलावा बांधने से वास्तु दोष दूर होता है। साथ ही लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती है। इतना ही नहीं घर की नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। वहीं सकारात्मक बने रहने लगती है। इसके अलावा बुरी शक्तियां भी दूर होती है। अगर कोई तुलसी के पौधे पर कलवा बांधता है तो इससे मन की कृपा हमेशा बनी रहती है।

Disclaimer- यहां दी गई सूचना सामान्य जानकारी के आधार पर बताई गई है। इनके सत्य और सटीक होने का दावा MP Breaking News नहीं करता।


About Author
Avatar

Ayushi Jain

मुझे यह कहने की ज़रूरत नहीं है कि अपने आसपास की चीज़ों, घटनाओं और लोगों के बारे में ताज़ा जानकारी रखना मनुष्य का सहज स्वभाव है। उसमें जिज्ञासा का भाव बहुत प्रबल होता है। यही जिज्ञासा समाचार और व्यापक अर्थ में पत्रकारिता का मूल तत्त्व है। मुझे गर्व है मैं एक पत्रकार हूं। मैं पत्रकारिता में 4 वर्षों से सक्रिय हूं। मुझे डिजिटल मीडिया से लेकर प्रिंट मीडिया तक का अनुभव है। मैं कॉपी राइटिंग, वेब कंटेंट राइटिंग, कंटेंट क्यूरेशन, और कॉपी टाइपिंग में कुशल हूं। मैं वास्तविक समय की खबरों को कवर करने और उन्हें प्रस्तुत करने में उत्कृष्ट। मैं दैनिक अपडेट, मनोरंजन और जीवनशैली से संबंधित विभिन्न विषयों पर लिखना जानती हूं। मैने माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से बीएससी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में ग्रेजुएशन किया है। वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन एमए विज्ञापन और जनसंपर्क में किया है।

Other Latest News