Sawan 2024: सावन में कावड़ यात्रा पर जाने का सोच रहे हैं ? पहले कर लें ये 3 तैयारी

Sawan 2024: सावन का महीना आ चुका है और इसका मतलब है कि लाखों श्रद्धालु भगवान शिव की पवित्र यात्रा पर निकलने वाले हैं। कांवड़ यात्रा एक कठिन तीर्थयात्रा है, जो 100 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय करती है। यात्रा में कई दिन लग सकते हैं और यह शारीरिक और मानसिक रूप से बहुत थका देने वाली हो सकती है। यदि आप इस साल कांवड़ यात्रा पर जाने की योजना बना रहे हैं, तो यात्रा शुरू करने से पहले कुछ महत्वपूर्ण तैयारियां कर लेना महत्वपूर्ण है।

भावना चौबे
Published on -
kawad yatra

Sawan 2024: बारिश की मदहोश खुशबू हवा में घुल चुकी है और आसमान में गरजते बादल मानो कावड़ियों के जयकारों का स्वागत कर रहे हैं। जी हां, श्रावण का पवित्र महीना शुरू होने वाला है, जो भगवान शिव की भक्ति में डूबा होता है। इस महीने लाखों श्रद्धालु भक्तिभाव से कावड़ यात्रा पर निकलते हैं। कावड़ यात्रा एक कठिन लेकिन आध्यात्मिक रूप से उत्थान करने वाली यात्रा है। यह यात्रा शारीरिक रूप से भी काफी चुनौतीपूर्ण होती है, जिसमें सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। इस साल यह यात्रा 22 जुलाई से शुरू हो रही है और देशभर में भक्तअपनी तैयारियां जोरों शोरों से शुरू कर चुके हैं।

हालांकि, सावन का माहौल सिर्फ धार्मिक श्रद्धा का ही पर्याय नहीं है, बल्कि हल्की गर्मी और बारिश का भी पर्याय है। ऐसे में सवाल उठता है कि बारिश के इस मौसम में यात्रा को कैसे सुरक्षित और सुखद बनाया जाए। आज के इस लेख में हम आपको कावड़ यात्रा के दौरान बारिश के मौसम से जुड़ी कुछ खास तैयारियों के बारे में बताएंगे। इन तैयारियों में खाने-पीने से लेकर पहनावे तक, हर चीज का ध्यान रखना जरूरी होता है, ताकि आपकी यात्रा आरामदायक और सुरक्षित बनी रहे।

कावड़ यात्रा पर जाने से पहले कर लें ये 3 तैयारी

रखें सूती कपड़े

कावड़ यात्रा एक पवित्र यात्रा है जिसमें श्रद्धालु भगवान शिव के लिए गंगाजल लाते हैं। यह यात्रा कठिन और थकाऊ हो सकती है। इसलिए, यात्रा के दौरान सही कपड़े पहनना महत्वपूर्ण है। सूती कपड़े इस यात्रा के लिए सबसे अच्छे कपड़े हैं क्योंकि वे हल्के, ढीले-ढाले और हवादार होते हैं। सूती कपड़े पसीने को सोखने में भी अच्छे होते हैं, जो आपको ठंडा और सूखा रखने में मदद करता है। इसके अलावा, सूती कपड़े टिकाऊ होते हैं और बार-बार धोए जा सकते हैं, जो यात्रा के दौरान महत्वपूर्ण है।

बारिश का सामान रखें

जुलाई का महीना आते ही मानसून की बारिश भी शुरू हो जाती है। ऐसे में कावड़ यात्रा पर निकलने वाले श्रद्धालुओं के लिए बारिश से बचाव करना बेहद ज़रूरी हो जाता है। तेज बारिश और उमस भरी गर्मी के बीच यात्रा करना पहले ही थकाऊ होता है, और अगर बारिश में भीग जाएं तो यह और भी मुश्किल हो सकता है। ठंड लगना, बुखार आना, और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं। इसलिए, यात्रा पर जाते समय रेनकोट और छाता साथ रखना बेहद ज़रूरी है। रेनकोट आपको भारी बारिश से बचाएगा, और छाता आपको धूप और हल्की बारिश से बचाएगा। छोटा और हल्का छाता ले जाना बेहतर होगा, ताकि वो आपको ज़्यादा परेशानी न दे।

पानी की बॉटल साथ रखें

पैदल चलने के दौरान पसीना निकलता रहता है, जिससे शरीर लगातार तरल पदार्थ खोता रहता है। अपनी पानी की बोतल को हमेशा अपने पास रखकर और नियमित रूप से घूंट लेते रहने से आप हाइड्रेटेड रहेंगे और थकान को कम कर पाएंगे। इतना ही नहीं, यह आपको हीट स्ट्रोक से भी बचा सकता है। तो इस बार कावड़ यात्रा पर निकलते समय अपनी पसंदीदा पानी की बोतल साथ ले जाना न भूलें। यह छोटी सी चीज आपकी यात्रा को काफी सुखद बना सकती है।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News