8, 17 और 26 अंक से शनि देव का है गहरा नाता, प्रसन्न होने पर बना देते हैं राजा

Sanjucta Pandit
Published on -

Shani Dev Numerlogy : शनि देव को न्याय का देवता माना जाता है जो व्यक्ति को उनके कर्मों के आधार पर फल देते हैं। ज्योतिष शास्त्र में शनि को एक महत्वपूर्ण ग्रह माना गया है। जिसका असर व्यक्ति के जीवन पर महत्वपूर्ण होता है। बता दें कि शनि देव का नंबर-8 से गहरा नाता होता है। अंक ज्योतिष की बात करें तो हर अंक का अपना महत्व होता है और व्यक्ति के जीवन में इसका प्रभाव पड़ता है। अगर किसी की जन्म तारीख 8, 17 या 26 को आती है, तो उन्हें अंक ज्योतिष के अनुसार शनि देव की कृपा प्राप्त होती है।

8, 17 और 26 अंक से शनि देव का है गहरा नाता, प्रसन्न होने पर बना देते हैं राजा

इनपर शनि देव की विशेष कृपा

शनि देव को ज्योतिष में कठिनाइयों, संघर्षों और धैर्य का प्रतीक माना जाता है। शनि भगवान की कृपा से व्यक्ति की सामाजिक और आर्थिक स्थिति में सकारात्मक बदलाव हो सकते हैं। अंक ज्योतिष में मूलांक की गणना जन्मतिथि के दिन, महीने और वर्ष के अंकों से की जाती है। किसी भी महीने में 8, 17 और 26 तारीख में जन्में लोगों का मूलांक 8 होता है।

अंक 8 के स्वामी हैं शनि देव

शनि देव अंक 8 के स्वामी होते हैं। मूलांक 8 के लोग रहस्यमयी और विचारशील होते हैं। उनके मानसिक प्रक्रियाओं को समझना और उनकी व्यक्तित्व को पहचानना मुश्किल होता है। ये लोग धीरे-धीरे अपने लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए प्लानिंग करते है। इन्हें सफलता के बाद भी संघर्ष का सामना करना पड़ता है।

मूलांक 8 की विशेषताएं

शनि ग्रह को न्याय का देवता माना गया है और इसका प्रभाव मूलांक 8 वाले व्यक्तियों के व्यक्तिगत गुणों पर पड़ता है। शनि के प्रभाव से इन लोगों का कद छोटा और रंग सांवला होता है और ये दिमाग से तेज भी होते हैं। इन्हें हर चीज बैलेंस करके चलना आता है। इस अंक के लोग अपनी मेहनत पर भरोसा रखते हैं। शनि को ठंडा और नीला रंग भी प्रिय होता है, जो इन लोगों के आचरण में प्रकट होता है। उनके चलने-फिरने का तरीका दूसरों से अलग होता हैं। ये अक्सर सावधानीपूर्वक और समय लेकर किसी काम को करते हैं। मूलांक 8 के जातकों की जिंदगी में उतार-चढ़ावों बना रहता है। आर्थिक स्थिति की दृष्टि से ये व्यक्ति सावधानीपूर्वक धन खर्च करने और बचत करते हैं।

समाज में पाते हैं सम्मान

मूलांक 8 के व्यक्ति कार्यक्षेत्र में लगाव, समय प्रबंधन, विचारशीलता और व्यक्तिगतता तरीके से काम करते हैं। ये विशेषताएँ उनके कामकाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं और उन्हें समाज में आदर्श बनाती हैं। काम के प्रति लगाव और समय के पाबंधन की क्षमता उन्हें सफलता की ओर बढ़ने में मदद करती है। इन व्यक्तियों की निर्भयता और लग्नशीलता के कारण वे समाज में सम्मान प्राप्त करते हैं।

(Disclaimer: यहां मुहैया सूचना अलग-अलग जानकारियों पर आधारित है। MP Breaking News किसी भी तरह की जानकारी की पुष्टि नहीं करता है।)


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News