अब भारत की सड़कों पर दौड़ेंगे हाइड्रोजन चलित वाहन, h2e कंपनी ने की घोषणा

यह कदम पर्यावरण (environment) को दृष्टिगत रखते हुए काफी महत्वपूर्ण होगा। आज भारत में छोटी पब्लिक ट्रांसपोर्ट गाड़ियों (public transport) की बात करें या छोटी मालवाहक गाड़ियों की, इनमे से ज्यादातर गाडियां (goods transport) डीजल इंजन चलित हैं जिसके वजह से वायु प्रदूषण (air pollution) में कहीं ना कहीं लगातार वृद्धि हो रही है ।

h2e vehicle

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट – अब भारत की सड़कों पर हाइड्रोजन (Hydrogen) से चलने वाले तीन पहिया वाहन जल्द ही नजर आ सकते हैं ऐसी घोषणा की है पुणे स्थित क्लीन टैक स्टार्टअप (Clean Tech Start-up) H2E Power Systems ने, h2e ने इस प्रोजेक्ट को कनाडा की एनर्जी कंपनी “हाइड्रोजन इन मोशन” (hydrogen in motion) के सहयोग से शुरू करने की बात की है। आपको बता दें यह देश का अपने तरीके का पहला प्रोजेक्ट होगा।

यह कदम पर्यावरण (environment) को दृष्टिगत रखते हुए काफी महत्वपूर्ण होगा। आज भारत में छोटी पब्लिक ट्रांसपोर्ट गाड़ियों (public transport) की बात करें या छोटी मालवाहक गाड़ियों की, इनमे से ज्यादातर गाडियां (goods transport) डीजल इंजन चलित हैं जिसके वजह से वायु प्रदूषण (air pollution) में कहीं ना कहीं लगातार वृद्धि हो रही है । अगर बात करें सीएनजी चलित वाहनों की तो CNG गैस के भड़ते दामों ने ऑटो चालकों की जेब में बड़ी कटौती की है। साथ ही इलेक्ट्रिक वाहन (electric vehicle) के भी रखरखाव और बैटरियों पर आने वाले खर्च में लगातार वृद्धि देखने को मिल रही है। ऐसे में हाइड्रोजन (hydrogen) पर चलने वाले तीन पहिया वाहन ना केवल पर्यावरण के स्तर में वृद्धि के लिए मददगार साबित होंगे बल्कि लोगों की आमदनी में बढ़ोत्तरी करने में भी सहायक होंगे।

यह भी पढ़े – विश्व पर्यवरण दिवस : विशेषज्ञों की राय अगले तीन सेकण्ड की साँस का खुद इंतजाम करें

इस प्रोजेक्ट में ग्रीन हाइड्रोजन(green hydrogen) का इस्तेमाल किया जाएगा।

इन वाहनों की सबसे बड़ी खासियत यही होगी कि इनका इस्तेमाल शहर के अंदर हो रहे सार्वजनिक और माल परिवहन (public and goods transport) के लिए किया जाएगा जिससे वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण(noise pollution) और भीड़ (congestion) को कम करने में मदद मिलेगी। आपको बता दें “h2e power systems” को अदार पूनावाला  (Serum institute of India) का पूरा सहयोग प्राप्त है।

h2e ने अपने बयान में यह भी बताया है की इन वाहनों में h2e fuel cell technology का इस्तेमाल कंपनी द्वारा किया जाएगा और इसमें इस्तेमाल किए जाने वाले हाइड्रोजन सिलेडर (hydrogen cylinder) काफी कीमत (low cost) के साथ काफी कम प्रेशर (low pressure) वाले होगे जिस वजह से यह बाकी इस्तेमाल हो रही तकनीकों के मुकाबले बेहतर है साथ ही इससे हमारा जीवाश्म ईंधन (fossil fuels) भी बचाया जा सकेगा।

यह भी पढ़े – हरियाणा: अब पशुओं के लिए भी आई प्रेग्नेंसी किट, सिर्फ ₹10 में, जानें डिटेल्स

पूनावाला के साथ इस प्रोजेक्ट में GITA भी अपना सहयोग (partial funding) h2e को प्रदान करेगा।आपको बता दें GITA (Global Innovation And Technology Alliance) एक “सार्वजनिक निजी साझेदारी” (Public Private Partnership) है भारत सरकार (Govt.of india), डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (Dept.of Science and Technology) और कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (Confederation of Indian Industry) की।h2e के मैनेजिंग डायरेक्टर सिद्धार्थ आर मयूर(Siddarth R Mayur) ने कहा कि हम “GITA” की मदद से पूरे भारत में zero emission vehicle कांसेप्ट को जल्द से जल्द लागू करने का प्रयास करेंगे।