भारत सरकार की बड़ी तैयारी, मोबाइल फोन खो जाने पर भी नहीं होगी टेंशन, जल्द लॉन्च होगा नया ट्रैकिंग सिस्टम

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Phone Tracking System: देशभर में मोबाइल चोरी के मामले बढ़ते जा रहे हैं। जिसपर काबू पाने के लिए भारत सरकार नई निगरानी प्रणाली (Tracking System) लॉन्च करने जा रही है। इस ट्रैकिंग सिस्टम के जरिए गायब या चोरी हुए मोबाइल फोन को ब्लॉक करना और उसका पता लगाना आसान हो जाएगा। इस बात की जानकारी एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी है।

17 मई को World Telecom Day के अवसर पर नए ब्लॉकिंग और ट्रैकिंग सिस्टम “सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेन्टिटी रिजस्टर (CEIR)” की शुरुआत होगी। साथ ही केन्द्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव द्वारा आधिकारिक तौर पर संचार साथी पोर्टल की पेशकश की जाएगी। इस प्लेटफॉर्म के माध्यम से लोग अपने चोरी या गम हुए फोन को ट्रैक और ब्लॉक कर पाएंगे। बता दें कि सेंटर फॉर डिपार्टमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (C-DOT) फिलहाल दिल्ली, कर्नाटक, महाराष्ट्र और नॉर्थ-ईस्टर्न के कुछ स्थानों पर इसका पायलट प्रोजेक्ट चला रहा है।

सी-डीओटी के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर राजकुमार उपाध्याय ने बताया की इस ट्रैकिंग प्रणाली को पूरे देश में लॉन्च किया जाएग। रिपोर्ट के मुताबिक अब तक इस पोर्टल की मदद से 8000 फोन बरामद किए गए हैं। वहीं 2 लाख से अधिक मोबाइल फोन ट्रैक किए गए हैं। राजकुमार उपाध्याय के मुताबिक यह प्रणाली मोबाइल की स्मगलिंग की जांच भी करेगा।

IMEI नंबर बदलने के बाद, चोरी या गम हुए फोन को ट्रैक नहीं किया सकता है। लेकिन इस सिस्टम के जरिए IMEI बदल जाने के बाद भी मोबाइल फोन को ट्रैक और ब्लॉक करना संभव होगा।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News