अपहरण कर अज्ञात बदमाशों ने रेलवेकर्मी से की लूटपाट, पत्नी का इलाज कराने पहुंचा था दिल्ली

अशोकनगर मुंगावली अलीम डायर।

अशोक कुमार रजक उम्र लगभग 55 वर्ष निवासी वार्ड नंबर 13 मुंगावली जिला अशोकनगर जो भोपाल रेलवे में कार्यरत हैं वह अपनी पत्नी रति बाई के कान का इलाज कराने अपने बेटे मयंक के साथ दिल्ली हॉस्पिटल ऐम्स मैं 21 जुलाई को गए थे इलाज के बाद वह 23 जुलाई को रिटर्न टिकट बनवाने हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन गए जहां पर आखिरी बार उनके लड़के मयंक से उनकी लगभग 12:00 बजे बात हुई उसके बाद उनके दोनों मोबाइल नंबर बंद आने लगे जिससे परेशान होकर उनके परिवार वालों ने उन्हें बहुत ढूंढा पर वह नहीं मिले फिर पुलिस स्टेशन में उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाई गई।

आज सुबह लगभग 7 बजे के बीच उनकी लड़की के नंबर पर एक अननोन नंबर से फोन आया फोन पर मयंक के पिता अशोक कुमार रजक बोल रहे थे उन्होंने बताया कि वह पुरानी दिल्ली के पास से बात कर रहे हैं तब परिवार वाले उनसे जाकर मिले तो वह अंडरवियर और शर्ट में थे फिर उन्होंने आपबीती अपने परिवार और पुलिस वालों को सुनाई जिसमें कहा कि कुछ अज्ञात लोगों ने उन्हें स्टेशन से कोई नशीला केमिकल  सुंघा कर अपहरण कर उनके साथ मारपीट कर लूटपाट की उनका बैग 25 30 हजार रुपए दोनों मोबाइल जरूरी काग जात ले गए और जंगली इलाके में झाड़ियों में फेंक गए। जब उन्हें होश आया तो वह रात भर चलकर पुरानी दिल्ली पहुंचे जहां से उन्होंने किसी दूसरे के नंबर से अपनी लड़की को फोन लगाया क्योंकि उन्हें उसी का नंबर याद था। इसके बाद वह अपने परिवार वालों से मिल सके और फिलहाल अशोक कुमार रजक का अभी ऐम्स हॉस्पिटल दिल्ली में मेडिकल चेकअप कर उनका इलाज किया जा रहा है। वह सकुशल जल्दी अपने परिवार के साथ घर लौटेंगे।

दिल्ली में आम लोगों के साथ इस प्रकार की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं ग्रामीण इलाकों से गए आम लोगों के साथ इस प्रकार की घटनाएं दिल्ली पुलिस और प्रशासन पर एक सवालिया निशान लगाती नजर आ रही है। देश की राजधानी मैं आम लोग अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं यह बहुत गंभीर विषय है। अगर समय रहते पुलिस और प्रशासन ने इस पर ठोस कदम नहीं उठाए तो लोग दिल्ली जाना तो छोड़ो दिल्ली के नाम से ही घबराएंगे।

"To get the latest news update download the app"