Breaking News
अब मंत्री-परिषद के सदस्य उतरेंगें सड़कों पर, जनता को समझाएंगे 'सड़क सुरक्षा' के नियम | 28 सितंबर को फिर भारत बंद का ऐलान, इसके पीछे ये है वजह | 12वीं पास के लिए सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका, जल्द करें अप्लाई | शर्मनाक : युवक की हत्या के शक में महिला को निर्वस्त्र कर घुमाया, पथराव-आगजनी, 8 पुलिसकर्मी सस्पेंड | शिवराज कैबिनेट की बैठक खत्म, इन अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी | मॉर्निंग वॉक के दौरान EOW इंस्पेक्टर की मौत, हार्ट अटैक की आशंका | अखिलेश की नजर अब मप्र पर, 3 सितंबर को आएंगें इंदौर | अटल जी के निधन पर पूरे देश में शोक और भाजपा नेता निकाल रहे डीजे यात्रा : कांग्रेस | VIDEO : मोबाईल टॉवर पर चढ़ा शराबी, मचा रहा हंगामा, नीचे उतारने में जुटी पुलिस | चुनावी साल में शिवराज सरकार का मास्टर स्ट्रोक, कुपोषण मिटाने खर्च करेगी 57 हजार करोड़ |

बिल पास कराने मांगी 8 लाख की रिश्वत, 3 लाख लेते कार्यपालन यंत्री गिरफ्तार

बालाघाट| मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले में एक ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के एक एक्जीक्यूटिव इंजीनियर को लोकायुक्त ने रिश्वत की बड़ी खेप के साथ गिरफ्तार किया है|  जेपी कंपनी के सुपरवाइजर उमाशंकर पटेल से इंजीनियर वीरेंद्र सिंह वर्मा ने 8 लाख रुपए की रिश्वत की मांग की थी। रिश्वत देने के बाद 12 लाख की सिक्युरिटी व 10 लाख का बिल पास किया जाना था।  जिसकी प्रथम किश्त के रूप में आज 3 लाख रुपए देने थे, जिसको रंगेहाथों गिरफ्तार किया गया है।  इस दौरान लोकायुक्त पुलिस ने उन्हें रिश्वत की रकम के साथ पकड़ा।

शिकायतकर्ता उमाशंकर पटले सुपरवाइज का कहना है कि ईई विजय वर्मा उन्हे धमकी देते थे कि यदि रिश्वत की रकम नहीं दी तो वो कंपनी को बर्बाद कर देंगे। शिकायतकर्ता जेपी इंन्फ्रास्ट्रक्चर के सुपरवाइजर उमाशंकर पटेल ने बताया कि इंजीनियर वीरेंद्र वर्मा द्वारा 8 लाख रुपए की मांग की गई थी। जिसकी प्रथम किश्त के रूप में आज 2-2 हजार के 3 लाख रुपए देने पहुंचे थे। इस दौरान शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस ने उन्हें रिश्वत की रकम के साथ पकड़ा। 

जानकारी के मुताबिक बताया जा रहा है कि एक्जीक्यूटिव इंजीनियर वीरेन्द्र सिंह वर्मा लगभग 3 साल से ज्यादा समय से बालाघाट में पदस्थ हैं। कुछ दिनों पहले उनका तबादला दूसरे जिले में कर दिया गया था। इसके बावजूद वह सांठगांठ करके फिर से आ गए। रिश्वत को लेकर इंजीनियर द्वारा जेपी इन्फ्रास्ट्रक्चर वालों को परेशान किया जा रहा था| जेपी इन्फ्रास्ट्रक्चर के संचालक सुभम वैद्य ने सुपरवाइजर उमाशंकर पटले के माध्यम से लोकायुक्त पुलिस में इसकी शिकायत की। जिसके बाद लोकायुक्त पुलिस ने प्लान बनाकर इंजीनियर को जाल में फंसा लिया| उमाशंकर पटेल को उसके शासकीय बंगले रिश्वत की 3 लाख रूपये की रकम भेजी। जैसे ही इंजीनियर ने रकम ली, लोकायुक्त पुलिस ने उन्हें रंगे हाथ पकड़ लिया।  

लोकायुक्त की टीम ने कार्रवाई करते हुए 2-2 हजार रुपए के नोट में 3 लाख की रिश्वत लेते हुए एक्जीक्यूटिव इंजीनियर वीरेन्द्र सिंह वर्मा को गिरफ्तार किया। जिनके खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला कायम किया जाकर जांच में लिया गया है।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...