शाह की सभा में पहुंची उप्र और बुंदेलखंड की भीड़, दावेदारों को मिला था टारगेट

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की सभा एवं रोड शो में भीड़ जुटाने के लिए प्रदेश भाजपा की ओर से विधानसभा टिकट के दावेदारों को टारगेट दिया गया था। गुना में शाह के रोड शो के लिए बुंदेलखंड के जिलों से बसों में भरकर भीड़ पहुंची,जबकि शिवपुरी के कार्यकर्ता सम्मेलन में उप्र के झांसी एवं अन्य जिलों से भीड़ पहुंची। प्रदेश भाजपा की ओर से यह कवायद इसलिए की गई, क्योंकि 6 अक्टूबर को इंदौर में शाह के कार्यक्रम में कुर्सियां खाली थीं। इसके बाद प्रदेश भाजपा ने शाह के रोड शो एवं सम्मेलन में भीड़ जुटाने की व्यवस्था की गई। 

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह मंगलवार को शिवपुरी, गुना एवं ग्वालियर के प्रवास पर थे। शिवपुरी के प्ले ग्राउंट मैदान पर आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में लोगों को हाथों में शिवराज सरकारी उपलब्धियों से जुड़ी तख्तियां लेकर खड़ा किया गया। खास बात यह है कि ये ऐसे लोग थे, जिन्हें कभी सरकार की योजनाओं का लाभ ही नहीं मिला था। उन्हें न ही उन योजनाओं की कोई जानकारी थी। हालांकि भारतीय जनता पार्टी की ओर से दावा किया गया था कि शिवपुरी में ग्वालियर संभाग के सभी जिलों के कार्यकर्ताओं का सम्मेलन हुआ, जिसे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने संबोधित किया था। 


गुना में भीड़ लेकर पहुंचे शिवपुरी के नेता 

गुना में अमित शाह के रोड शो में दूसरे जिलों की भीड़ पहुंची। शिवपुरी में टिकट की दावेदारी कर रहे भाजपा नेताओं को गुना में भीड़ लाने का लक्ष्य दिया था। साथ ही श्योपुर से भी भीड़ पहुंची। 


सिंधिया के गढ़ में फीका रहा शाह का रोड़ शो

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष कांगे्रस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के चुनाव क्षेत्र शिवपुरी-गुना में कार्यकर्ताओं में उत्साह बढ़ाने के लिए आए थे। शाह का यह रोड शो आगामी लोकसभा चुनाव में सिंधिया को पटकनी देने की भाजपा की रणनीति के तहत था। लेकिन गुना में बाहर से भीड़ लाई गई, ऐसे में सिंधिया के गढ़ में शाह का रोड शो फीका रहा। रोड़ शाह प्रमुख मार्गों से निकला, जिसमें सैकड़ों की संख्या में गाडिय़ों का काफिला था, जबकि भीड़ कम थी। 


गुजराती पत्थर मार रहे, लेकिन उत्तर-भारत में गुजरातियों पर फूल बरस रहे

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह मूलत: गुजरात के हैं। गुजरात के वर्तमान हालात किसी से छिपे नहीं है। वहां उत्तर-भारतीयों (हिंदी भाषियों)पर हमले हेा रहे हैं। पिछले पांच दिन के भीतर हजारों की संख्या में लोग अपने घरों को लौट चुके हैं। इसके बावजूद भी गुजरात में उत्तर-भारतीयों पर हमले बंद नहीं हुए हैं। वहीं इधर गुजरातियों पर उत्तर भारत में फूल बरसाए जा रहे हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह इन दिनों हिंदी भाषी राज्यों के प्रवास पर हैं, जहां उनका फूलों से स्वागत हो रहा है।

"To get the latest news update download tha app"