हनुमान जयंती पर भक्तिभाव में डूबे कमलनाथ, सिद्धेश्वर हनुमान मंदिर में की पूजा अर्चना

छिंदवाड़ा| प्रदेश भर में आज हनुमान जयंती धूम धाम से मनाई जा रही है| खास बात यह है कि शनिवार और मंगलवार दोनों ही हनुमान के दिन माने जाते हैं और आज शनिवार को ही हनुमान जयंती पड़ी है| इस संयोग का भरपूर लाभ लेने भक्तों की भारी भीड़ मंदिरों में उमड़ रही है| प्रदेश के कद्दावर नेता और कांग्रेस सांसद कमलनाथ भी हनुमान भक्त हैं और हर साल हनुमान जयंती पर छिंदवाड़ा के सिमरिया गांव में स्तिथ श्री सिद्धेश्वर हनुमान मंदिर में जाकर विशेष पूजा अर्चना करते हैं| इस बार भी कमलनाथ ने मंदिर में जाकर दर्शन किये और विशेष धार्मिक अनुष्ठान किया गया| वहीं कमलनाथ गदा यात्रा जो कि छिंदवाड़ा की पहचान है उसमे भी शामिल हुए| 

यहां के सिमरिया गांव में श्री सिद्धेश्वर हनुमान मंदिर में हनुमान जी की 101 फीट ऊंची विशाल प्रतिमा है। इस मंदिर को सांसद कमलनाथ ने बनवाया है। 101 फीट ऊंचे हनुमान जी की प्रतिमा के दर्शन के लिए देश-विदेश से लोग आते हैं| हनुमान जन्मोत्सव के मौके पर सांसद कमलनाथ ने यहां विधि-विधान से पूजा अर्चना की|


ऐसा है इतिहास 

1980 के चुनाव प्रचार के दौरान रात के लगभग 2 बजे जब कमलनाथ संतारांचल से छिंदवाड़ा लौट रहे थे| तब उमरानाला और लिंगा के बीच उनका वाहन दुर्घटनाग्रस्त होते-होते बचा। ये वही क्षेत्र है जहां हनुमान जी के भव्य मंदिर का निर्माण हुआ| इसके बाद कमलनाथ ने हनुमानजी की 101 फीट ऊंची विशाल प्रतिमा बनवाई| 25 अक्टूबर 2012 को मंदिर का निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ था| इस प्रतिमा के चारों ओर लाल संगमरमर के पत्थरों से परिक्रमा स्थल का निर्माण कराया गया है।ग्राम सिमरिया में 101 फीट छह इंच ऊंची हनुमानजी की प्रतिमा का निर्माण एवं गर्भगृह में अन्य देवी देवताओं की प्रतिमाओं की स्थापना कर यह मंदिर सनातन धर्म को समर्पित किया गया है|


इस स्थान पर एक सुंदर मंदिर का निर्माण भी किया गया है, जिसमें पांच देवी देवताओं की सुंदर मूर्तियां विराजित हैं। मध्य प्रदेश की यह सबसे बड़ी बजरंग बली की प्रतिमा है। शहर से 18 किलोमीटर दूर नागपुर रोड पर स्थित ग्राम सिमरिया में यह स्थल है| जहां दूर दूर से लोग दर्शन को पहुँचते हैं, वहीं शहर के लिए भी यह एक पर्यटन स्थल बन चुका है| यहां पर पांच एकड़ में एक सुरम्य परिसर भी विकसित किया गया है। बजरंगबली की मूर्ति के साथ ही शिव पार्वती, राम दरबार, लक्ष्मी नारायण, भगवान गणेश, देवी दुर्गा की प्रतिमायें भी मंदिर में स्थापित की गई हैं।


वीडियो साहरा समय के सौजन्य से