Breaking News
जूडा का अनोखा विरोध, MYH के सामने लगाई समानांतर ओपीडी | संगठन नहीं शिवराज के चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी भाजपा | अटकलों पर लगा विराम, किसी भी कीमत पर नही बिकेगा किशोर कुमार का पुश्तैनी घर | अंतर्राज्यीय चंदन तस्कर गिरोह का पर्दाफाश, वर्दी का रौब दिखाकर करते थे तस्करी | शर्मनाक : 4 साल की मासूम से दुष्कर्म की कोशिश, आइसक्रीम का लालच देकर ले गया था आरोपी | दर्दनाक हादसा : स्कूल जा रहे बच्चों को ट्रक ने रौंदा, मौके पर मौत, | नपा के खिलाफ ठेकेदार ने शुरु की लोटन यात्रा, CMO बोले- नही मिलेगा एक भी पैसा | VIDEO : सरकार के खिलाफ कांग्रेस का अनोखा प्रदर्शन, आम चूसकर गुठलियां फेंकी | शिवराज जी, आप चिंता छोड़ जनआशीर्वाद यात्रा निकाले, मैं जनता को बताउंगा सच्चाई : कमलनाथ | आज से जूडा का आंदोलन शुरु, मांगे पूरी ना होने पर दी हड़ताल की चेतावनी |

सफाई-बायो मेडिकल वेस्ट बैग घोटाला : 4 जिलों के सिविल सर्जन निलंबित, बाकियों पर कार्रवाई नही

धार

बीते दिनों मध्यप्रदेश के धार जिला अस्पताल में सफाई सामग्री और बायोमेडिकल वेस्ट क्लेक्शन बैग खरीदी में 73 लाख रुपए का घोटाला उजागर हुआ था। इसमें शामिल होने पर धार के सिविल सर्जन औऱ सीहोर, हरदा ,राजगढ़ के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को सस्पेंड को निलंबित किया गया  है।इसमें अभी भी कुछ सीएमएचओ और सिविल सर्जन शामिल भी है लेकिन विभाग द्वारा उन पर अब तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है।जिसको लेकर सिविल सर्जनों और अधिकारियों में रोष है।वही निंलंबित किए गए अस्थिरोग विशेषज्ञ एसके खरे ने 13 जून 2017 को सिविल सर्जन का पद संभाला था। दिसंबर 2018 में खरे रिटायर्ड होने वाले थे। इससे वित्तीय अनियमितता के चलते उन्हें निलंबित कर दिया गया।जिसको लेकर उन्होंने भी आपत्ति जताई है।

मामले में डाॅ. खरे ने कहा कि 38 जिलों के अस्पतालों में इसी पद्धति से सामग्री की खरीदी की गई है। कार्रवाई सिर्फ धार, हरदा, सिहोर और राजगढ़ पर की गई है।  बताया जा रहा है कि अधिकारी कोर्ट की शरण में जा सकते हैं। इसमें विभाग की कमिश्नर ऑफिस का जवाब देना कोर्ट में महंगा साबित हो सकता है।

असल में, घोटाले का आरोप सिविल सर्जन डॉ. एसके खरे पर लगा है। उन्हें वित्तीय अनियमिततता के आरोप में संचालनालय स्वास्थ्य सेवा के अपर संचालक विवेक श्रोत्रिय ने तत्काल प्रभार से निलंबित कर दिया है। इन्हें क्षेत्रिय संचालक स्वास्थ्य सेवाएं इंदौर कार्यालय में अटैच किया है। वहीं हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. महेश कुमार बौरासी को सिविल सर्जन का प्रभार दिया है। 

वही अपर संचालक स्वास्थ्य सेवा में अपने आदेश में कहा है कि जिला अस्पताल में सफाई, सुरक्षा व बायो मेडिकल वेस्ट के मदों में जो राशि खर्च की गई। वह सही नहीं है। जब स्वास्थ्य विभाग को उस बात की जानकारी लगी तो मामले में 21 जून को जांच करवाई गई। जांच दल ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की। इसमें वित्तीय अनियमतिताएं सामने आई।जिसके बाद ये कार्रवाई की गई है।

बता दे कि  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी छिंदवाड़ा 7000000, सीएमएचओ सीधी 5500000 , सीएमएचओ अलीराजपुर 4100000 , सीएमएचओ बुरहानपुर 3500000 द्वारा आहरण किया गया है। वही सिविल सर्जन बैतूल द्वारा 5500000 , छिंदवाड़ा 7400000 ,इंदौर 4400000 , नरसिंहपुर 4300000 , सीहोर 3800000 , सिविल सर्जन सीधी 3200000 CS , उमरिया 4500000 , सीएमएचओ बुरहानपुर 3500000 सीएस,  बुरहानपुर 45 लाख में गड़बड़ी सामने आने के बाद विभाग द्वारा इन अधिकारियों को दोषमुक्त किए जाने पर या इन पर कार्यवाही नहीं किए जाने पर सस्पेंड किए गए ।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...