10 साल के बच्चे का अपहरण, परिजन खुद 7 लाख फिरौती देकर छुड़ा लाए, पुलिस अब भी खाली हाथ

गुना| मध्य प्रदेश के गुना जिले में एक दस साल के बच्चे का अपहरण का मामला सामने आया है| अपहरण के बाद बदमाशों ने परिवार वालों से 12 लाख की फिरौती मांगी जिसके शिकायत पुलिस में की गई, लेकिन पुलिस अपहरकर्ताओं को पकड़ने में नाकाम रही, और परिजन खुद सात लाख रुपए फिरौती देकर अपहरकर्ताओं से बच्चे को छुड़ाकर ले आये| परिजनों ने आरोपीयो को पकड़ने की माँग पुलिस से की है| फिलहाल इस वारदात के 24 घंटे बाद भी पुलिस खली हाथ है और तफ्तीश में जुटी हुई है| 

 गुना जिले की चाचौड़ा तहसील का यह मामला है, जहां पर एक 10 साल के बच्चे सोम्या पालिवाल का उस समय दो अज्ञात बाइक सवार बदमाशों ने अपहरण कर लिया जब वह घर के सामने वाले मैदान में खेल रहा था|  आरोपियों ने बच्चे से कहा कि हाथी आया है और चलो तुम्हें दिखा कर लाते हैं सुनकर बच्चे ने उनके साथ चल दिया| शाम को  5:30 बजे अज्ञात बदमाशों ने इस वारदात को अंजाम दिया | जैसे ही इस बात पर की खबर परिजनों को लगी कि बच्चा गायब हो चुका है और अपहरण कर लिया गया है तो आरोपियों द्वारा पिता को फोन पर पुलिस को सूचना नहीं देने की धमकी भी दी गई|  लेकिन परिजनों ने देर शाम पहुंचकर अपनी शिकायत पुलिस में दर्ज कराई |

शिकायत दर्ज होने के बावजूद भी पुलिस कुछ नहीं कर पाई और आरोपियों ने 12 लाख रुपए की फिरौती बच्चे के पिता मनीष पालीवाल से मांगी 12लाख  रुपए ना देने पर ₹7 लाख  में सौदा पक्का हुआ और बीनागंज NH 3 के किनारे बनी खेत में 7 लाख रुपया देकर बच्चे को पिता मनीष पालीवाल छुड़वाने में सफल होगा वही पुलिस पर बड़ा सवाल यह खड़ा उठता है कि जहां पुलिस करोड़ों रुपए के आधुनिक सामानों से अपने आप को सुसज्जित महसूस करती है उसी पुलिस को घटना के 24 घंटे गुजर जाने के बाद भी पुलिस अज्ञात बदमाशों को पकड़ने में अभी तक सफलता हासिल नहीं कर पाएंगे वहीं स्थानीय नेताओं ने भी पुलिस पर सवाल खड़े करते हुए कहा है कि अगर 24 घंटे में आरोपी पकड़े नहीं जाते हैं तो बाजार बंद कर उग्र आंदोलन किया जावेगा वहीं इस पूरे मामले में पुलिस अधिकारी कार्यवाही करने की बात कह कर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते नजर आ रहे हैं लेकिन चाचौड़ा क्षेत्र में पहली बार बच्चे के अपहरण के मामले से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैली हुई है अब देखने वाली बात यह होगी कि कितनी जल्दी पुलिस इन आरोपियों को पकड़ पाती है|