आरक्षक को थप्पड़ जड़ने वाले बीजेपी विधायक निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव

देवास। बीजेपी ने टिकट बांटवारे में बाजी तो मार ली है लेकिन जिनका टिकट कट गया है उनको साधना मुश्किल होता जा रहा है। एक के बाद एक नेताओं ने पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। टिकट कटने से नाराज विधायक बगावत पर उतारू हो गए हैं और निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर रहे हैं। इस कड़ी में देवास जिले के बागली विधानसभा से दो बार के भाजपा विधायक चम्पालाल देवड़ा भी शामिल हो गए हैं। पार्टी ने फीडबैक के आधार पर उनका टिकट काट दिया है। लेकिन वह इस फैसले से खफा हैं और निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे। बागली के भाजपा विधायक चम्पालाल देवड़ा का एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें वे विजयनगर थाने में पदस्थ आरक्षक संतोष को थाने में कई थप्पड़ लगाते हुए नजर आ रहे थे।

उन्होंने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि बागली विधानसभा 'कोरकू' बाहुल्य सीट है। ऐसे में यहां से पहाड़ सिंह कन्नौजे  को टिकट दिए जाने के बाद कार्यकर्ताओं में रोष है। 'कोरकू' समाज और कार्यकर्ताओं के भावनाओं का सम्मान  रखने के लिए चुनावी मैदान में उतरेने का फैसला किया है। विधायक चम्पालाल देवड़ा के इस ऐलान से बागली के राजनीतिक गलियारों में हलचल का माहौल है। 

गौरतलब है कि पार्टी ने देवड़ा का टिकट काट कर इस बार नए चेहरे पर दांव लगाया है।  प्रशासनिक अनुभव रखने वाले पहाड़ सिंह कन्नौजे को बागली से टिकट दिया गया है। लेकिन देवड़ा अपने टिकट कटने के काफी दुखी हैं उन्होंने दावा किया है कि वह पार्टी के विरूद्ध जाना नहीं चाहते हैं और आज भी बीजेपी के समर्पित कार्यकर्ता हैं। लेकिन उनके समर्थकों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला किया है। 

बीजेपी ने दो नवंबर को अपनी पहली लिस्ट जारी की है। इसमें 176 उम्मीदवारों की घोषणा की गई है। लेकिन लिस्ट जारी होने के बाद से ही कई सीटों पर भारी विरोध हो रहा है। इसमें जबलपुर, नीमच, शमशाबाद, देवास सीट शामिल हैं। शनिवार को कई कार्यकर्ता सीएम निवास का घेराव भी करने पहुंचे थे।