Breaking News
पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी, कहीं ठेले पर बाईक रख जताया विरोध तो कहीं धरने पर बैठे कांग्रेसी | VIDEO : भूरी टेकरी विस्थापन को लेकर निगम की कार्रवाई, कांग्रेस विधायक ने मांगी मोहलत | राहुल गांधी के कार्यक्रम पर प्रशासन की 19 शर्तें, सिर्फ 15 फ़ीट के टेंट में सभा की इजाजत | VIDEO : भोपाल मेयर की सख्त कार्रवाई, नगरनिगम की ट्यूबवेल से हटवाया दबंग का कब्जा | कमलनाथ ने कार्यकर्ताओं को दिए निर्देश, मंडी में किसानों के साथ मिल सरकार के खिलाफ करें प्रदर्शन | प्रधानमंत्री योजना का आवास ना मिलने पर ग्रामीण ने खाया जहर, सरपंच-सचिव पर लगाया रिश्वत मांगने का आरोप | फेसबुक पर कलेक्टर को जान से मारने की धमकी, गृहमंत्री और सांसद पर भी आपत्तिजनक पोस्ट | 23 करोड़ का आईएएस.. | कांग्रेस प्रदेश कार्यसमिति का गठन, 20 जिला अध्यक्षों की घोषणा, दिग्विजय को अहम जिम्मेदारी | शिवराज कैबिनेट के फैसले, यहां पढ़िए विस्तार से |

IPL देखने पहुंचे मंत्री को गेट पर ही रोका, अफसरों पर भड़के, नाराज होकर वापस लौटे

इंदौर| होल्कर स्टेडियम में आईपीएल मैच के दौरान अव्यवस्थाओं से मंत्री विजय शाह नाराज हो गए| उनके वाहन को गेट पर ही रोक दिया गया, पहचान बताने के बाद भी उनकी गाड़ी अंदर नहीं जाने दी, जिस पर शाह बेहद नाराज हो गए और अफसरों को जमकर खरी खोटी सुनाई और मैच देखे बिना ही वापस लौट गए| 

दरअसल, होलकर स्टेडियम में किंग्स इलेवन पंजाब और रॉयल चैलेंजर बेंगुलूरु का मैच देखने सोमवार को शिक्षा मंत्री विजय शाह पहुंचे थे| लेकिन उन्हें वीआईपी ट्रीटमेंट नहीं मिला और अफसरों की टीम ऐसी बॉक्स में बैठकर मैच देखते रहे| अव्यवस्थाओं को देखकर मंत्री भड़क गए| स्टेडियम के गेट पर ही उनकी कार रोक दी और भीतर नहीं जाने दिया। मंत्री वाहन से उतरकर अपनी सीट तलाशते रहे लेकिन न कोई अधिकारी पहुंचा और न ही अन्य स्टाफ। इससे गुस्साए शाह मैच छोड़कर स्टेडियम से बाहर निकल गए। हालांकि मंत्री की नाराजगी देख कई अफसर उन्हें मनाने पहुंचे। काफी देर तक प्रयास करते रहे पर वह नहीं माने और रवाना हो गए।

शाह जब स्टेडियम में पहुंचे तो वहां उन्हें गैलरी में जगह मिली, वहीं पैवेलियन व बॉक्स में अफसर बच्चों सहित आनंद ले रहे थे। यह देखकर भी शाह भड़क उठे और बाहर आ गए|  उन्होंने अफसरों को खूब खरी-खोटी सुनाई। यही नहीं चेताया भी कि यह स्कूल का रास्ता है, अगली बार यहां से एंट्री कैसे होती है देखता हूं। उन्होंने कहा यह जगह विवेकानंद स्कूल की है। इस पर दीवार खिंचवा दूंगा। फिर कहां करोगे वीआईपी पार्किंग। अफसरों ने उनसे काफी आग्रह किया लेकिन वे रवाना हो गए। 

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...