जान जोखिम में डाल उफनती पुलिया पर विसर्जन करने पहुंचे भक्त, पुलिसकर्मी नदारद

आगर मालवा। गिरीश सक्सेना। 

एक तरफ श्रद्धा तो दूसरी तरफ अपनी जान का जोखिम और तीसरी तरफ पुलिस और प्रशासन की बड़ी लापरवाही । जी हां ऐसा ही कुछ नजारा है आगर मालवा जिले के नलखेड़ा में स्थित विश्व प्रसिद्द मां बगलामुखी मंदिर के पास का। यहां पर अनंत चतुर्दशी के अवसर पर कुछ भक्तगण जिनमें महिला भी शामिल है अपनी जान जोखिम में डालकर भी गणेश प्रतिमा का विसर्जन करने हेतु आतुर दिखाई दे रहे है ।

उफनती हुई पुलिया जिस पर व्यवस्थित रेलिंग भी नहीं है और जिस के ऊपर से करीब 3 फुट से भी अधिक ऊंचाई से पानी का तेज बहाव है पर उसे भी क्रॉस कर गणेश जी की भक्ति में डूबे भक्तगण गणेश प्रतिमा का विसर्जन करने के लिए लखुंदर नदी की तरफ जा गए। वैसे होना तो यह चाहिए कि लोगों को अपनी सुरक्षा का स्वयं ध्यान रखना चाहिए पर अपनी भक्ति में डूबे इन भक्तों की जान की परवाह शायद पुलिस और प्रशासन को भी नहीं है इसलिए ही इतने महत्वपूर्ण मार्ग की इस पुलिया पर इन भक्तों को रोकने के लिए पुलिस और प्रशासन का कोई नुमाइंदा यहां मौजूद नहीं है ।

ये तस्वीरें साफ बता रही हैं कि लोगों की यह लापरवाही कभी भी इनकी जान पर भारी पड़ सकती है पर ये हैरान करने वाली तस्वीरे आपके सामने है और ये अपने आप में इन भक्तों के साथ ही पुलिस और प्रशासन की गंभीर लापरवाही को भी उजागर कर रही है। हम आपको बता दें कि यह दृश्य आगर मलवा जिले के नलखेड़ा में स्थित विश्व प्रसिद्द मंदिर मां बगलामुखी मंदिर के पास का है जहां से यह नाला लगातार क्षेत्र में हो रही बारिश के चलते उफ़न रहा है और इसके चलते इस नाले का पानी मंदिर के पास ही स्थित एक पुलिया से करीब 3 फुट ऊपर से बह रहा है पर इसके बाद भी नलखेड़ा के कई भक्त अपनी जान जोखिम में डालकर मंदिर के पीछे स्थित लखुनदर नदी में परंपरा अनुसार अपनी गणेश प्रतिमा का विसर्जन करना चाहते है और इसके लिए ये अपनी जान जोखिम में डालने को भी तैयार है। साफ है भक्तों के साथ ही पुलिस और प्रशासन की यह लापरवाही कभी भी किसी बड़े हादसे का कारण बन सकती है ।


"To get the latest news update download the app"