बीमार अस्पताल को सुधारने मंच पर एक साथ आए भाजपा-कांग्रेसी दिग्गज

सीहोर। अनुराग शर्मा।

प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिला सीहोर में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार की मांग को लेकर तीन दिवसीय भूख हडताल कर रहे कांग्रेसी नेता आशीष गेहलोत के अनशन के तीसरे भाजपा और कांग्रेस के बडे और प्रदेश स्तर के नेता भी उनके समर्थन में मंच पर दिखाई दिए। पूर्व सांसद सज्जन सिंह वर्मा, राज्यसभा  पूर्व सांसद सुरेन्द्र सिंह ठाकुर, सहकारिता नेता रमेश सक्सेना, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जसपाल सिंह अरोरा, इछावर विधायक शैलेन्द्र पटेल, जिला कांग्रेस अध्यक्ष रतन सिंह ठाकुर सहित समाजसेवी और व्यापारी संगठन के लोगों भूख हड़ताल कर रहे गेहलोत के समर्थन में अनशन स्थल पहुचें और उनके इस कार्य की सरहाना करते हुए कहा कि दलगत राजनीति से ऊपर उठकर जनहित के बात करने वालों के पक्ष में हमेशा खडा होना चाहिए। तहसीलदार सुधीर कुशवाह और सिविल सर्जन भरत ने अनशन स्थल पहुंचकर जूस पिलाकर आशीष गेहलोत की भूख हडताल समाप्त करवाई। जिला अस्पताल में स्वास्थ्य सेवाएं बहाली को लेकर इस दौरान भाजपा और कांग्रेस नेताओं ने मिलकर 15 सूत्रीय मांगों पर एक ज्ञापन सौंपा। सिविल सर्जन भारत आर्य ने आश्वासन देते हुए कहा कि जिला अस्पताल में जो भी कमियां हैं जल्द से जल्द दूर किया जाएगा। 

चरमराती स्वास्थ्य सेवाओं पर क्या बोले नेता

अनशन में पहुंचे पूर्व सांसद सज्जन सिंह वर्मा ने सीएम शिवराज पर तंज कसते हुए कहा कि मांगे किससे अब छिनने का समय आ गया, धन्यवाद देता हूं मुख्यमंत्री को गऊ माता की बात चली तो आपने गऊ आयोग बना दिया। पूरे पांच निकल गए गऊ माता दर-दर ठोकरे खाती रहीं, सडक़ों पर अभी भी गऊ माता बैठी हैं। आशीष गेहलोत ने अनशन किया है तो है भईया शिवराज एक मानव जीवन कल्याण आयोग बना दे ताकि मानवों का जीवन तो सुरक्षित हो जाए। पूर्व विधायक रमेश सक्सेना ने कहा कि मैं व्यक्तिगत रुप से आशीष के साथ हूं यदि कोई व्यक्ति व्यवस्थाएं सुधारने के लिए कोई प्रयत्न करता है तो चाहे वह किसी भी पार्टी, समाज का व्यक्ति हो उसके समर्थन में खडा होना चाहिए। लगातार पांच वर्ष से अव्यवस्था ही अव्यवस्था देखी जा रही है। 

इछावर विधायक शैलेन्द्र पटेल ने अपने संबोधन में कहा कि शासन गरीबों के मदद के लिए बडा बजट देती है लेकिन इस बजट से अधिकारी जब अपनी जेब भरने लगेंगे तो अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं तो बिगडेंगी।  कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं की अव्यवस्थाओं को लेकर स्वास्थ्य सचिव मप्र से बात की जो उन्होंने कहा कि लगता है हम भी डाक्टरों के चंगुल में फंस गए हैं। हम भी कुछ नहीं कर सकते हैं। स्वास्थ्य व्यवस्था यदि चरमराती है तो बहुत गहन दुख का विषय है। 

पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष भाजपा नेता जसपाल सिंह अरोरा ने  कहा कि वह हमेशा से गरीबों की आवाज उठाते रहे हैं पूर्व में भी एक बच्चें मद्द के लिए उन्होंने अस्पताल के खिलाफ आवाज उठाई थी लेकिन कांग्रेस के एक नेता ने उनके खिलाफ गिरफ्तारी की मांग उठाई। गांधीवादी तरीके के साथ ही दूसरा तरीका भी रखना चाहिए। सार्वजनिक रुप से आशीष लडाई लड रहे हैं वह बधाई के पात्र हैं। 

अनशन का संचालन म.प्र.कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के सदस्य सुरेश साबू द्वारा किया गया, अंत में आभार म.प्र.कांग्रेस कमेटी के प्रदेश सचिव जफरलाल द्वारा माना गया। इस अवसर पर कांग्रेस नेता अक्षत कांसट ने आगामी कार्ययोजना व अभी तक जानकारी को विस्तार से बताई