Breaking News
चुनाव से पहले शिवराज पुत्र राजनीति में सक्रिय, कांग्रेस नेताओं को बताया राजनैतिक मेंढक | मानसून सत्र छोटा रख सदन में चर्चा से बचना चाह रही शिवराज सरकार : कमलनाथ | नेता प्रतिपक्ष ने विधानसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र! | VIDEO : अविश्वास की आरोप कथा, अर्जुन सिंह को दी गयी नशीली दवाएं ? | फर्जी पासपोर्ट मामला : एयरपोर्ट से पकड़ाया नाइजीरियन नागरिक दोषी करार, कोर्ट ने सुनाई सजा | बिजली कर्मचारियों की चेतावनी -10 दिन में नियमित करो, नही तो करेंगें प्रदेशभर में काम बंद | कलेक्टर को देख भागे रेत माफिया..! | MP : 11 हजार करोड़ का अनूपूरक बजट विधानसभा में पेश, मंगलवार को होगी चर्चा | दीपिका कुमारी ने रचा इतिहास, 6 साल बाद भारत को दिलाया वर्ल्ड कप में गोल्ड | पहल बनी मिसाल : ये स्कूल हुआ तम्बाकू मुक्त, बच्चे करते हैं निगरानी |

सहकारी कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर, ठप हुए किसानों के काम

सिवनी| सहकारी संस्थाओं के कर्मचारियों ने बुधवार से अनिश्चितकालीन पर जाने का निर्णय लिया है। तीन सूत्रीय मांगों के पूरा नहीं होने पर प्रदेश सहित जिले के सहकारी संस्थाओं के कर्मचारी हड़ताल पर जाने के लिए मजबूर हुए हैं। जिले के सभी सहकारी कर्मचारियों ने आज अपने इस प्रदेश व्यापी आन्दोलन की शुरुआत मप्रसहकारी संस्थाए कर्मचारी महासंघ के बैनर तले कलक्ट्रेट के सामने की है।

सहकारी कर्मचारी वेतन बढ़ाने,सेवा निवृति की आयु 62 वर्ष करने,सहकारी कर्मचारियों के जिला केडर स्थानान्त्र्ण नीति लागू करने,नयी ग्रामीण उचित मुल्य दुकाने स्व-सहायता समूहों को न देकर सहकारी समितियों द्वारा ही संचालन करने,सहकारी कर्मचारियों को राज्य कर्मचारियों का दर्जा देने ,समर्थन मुल्य खरीदी के दौरान अनाज परिवहन ठेकदार द्वारा नहीं दी गयी लोडिंग की लाखों रुपयों की राशि समितियों को दिलाने जैसी मांगों को लेकर आन्दोलन की राह पर हैं| 

इससे पहले सहकारी कर्मचारियों ने 12 फरवरी को अपनी विभिन्न मांगों को लेकर सांकेतिक एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया था और शासन द्वारा मांगे नहीं सुने जाने पर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की बात कही थी जिसके बाद आज से कर्मचारी हड़ताल पर चले गए है| सहकारी संस्थाओं के कर्मचारियों की अनिश्चितकालीन हड़ताल से आम लोगों की परेशानियां बढ़ गई हैं। इस हड़ताल का असर किसानों के ऋण माफी कार्य, ऋण वितरण, राशन वितरण, बीज वितरण कार्य, बचत बैंकों में लेनदेन का कार्य, खाद बीज वितरण सहित अन्य काम प्रभावित होंगे। इससे सबसे ज्यादा परेशानी ग्रामीण क्षेत्र के ग्रामीणों और किसानों को हो रही है| 

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...