Breaking News
व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! | अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित |

अब सिंगल पेरेंट के गोद लिए बच्चे को भी होगा अनुकंपा नियुक्ति का अधिकार : हाईकोर्ट

उज्जैन/ग्वालियर।

मध्यप्रदेश की ग्वालियर हाईकोर्ट ने सिंगल पेरेंट के हक मे एक फैसला सुनाया है। जिसके अनुसार अब सिंगल पेरेंट के बच्चे को भी अनुकंपा नियुक्ति का अधिकार होगा। यह फैसला  जस्टिस सतीशचंद्र शर्मा की खंडपीठ ने सोमवार को सुनाया है। 

दरअसल, सालों पहले उज्जैन नगर निगम कर्मचारी किशोर श्रीवास्तव ने शादी नही की थी, लेकिन वे सिंगल पेरेंट बने थे। सालों पहले उन्हें कानूनी तरीके से एक बच्चा गोद लिया था। किशोर ने बच्चे का नाम अशोक रखा था। पिछले साल किशोर की अचानक मृत्यु हो गई थी, जिसके बाद बेटे अशोक ने निगम में अनुकंपा नियुक्ति के  अपील की थी और उन्होंने इसके लिए सिंगल पेरेंट के सर्टिफिकेट भी निगम में पेश किए थे।लेकिन इन सब के बावजूद निगम ने उसका आवेदन यह कहकर ठुकरा दिया था कि उसे किसी दंपत्ति ने नही बल्कि एक सिंगल पेरेंट ने गोद लिया है।निगम में सुनवाई ना होने पर अशोक ने ग्वालियर कोर्ट में अर्जी लगाकर न्याय की गुहार लगाई थी। अशोक की तरफ से अधिवक्ता आनंद अग्रवाल ने पैरवी की थी।जिस पर आज सुनवाई हुई और फैसला अशोक के हक में आया ।

कोर्ट की सुनवाई जस्टिस सतीशचंद्र शर्मा की खंडपीठ ने की और अपने फैसला में कहा कि सिंगल पेरेंट (कुंवारा) बनकर भी कोई व्यक्ति बच्चा गोद लेता है तो उस संतान को अनुकंपा नियुक्ति का अधिकार होगा।

बता दे कि पहले ऐसा नियम था कि केवल दंपती द्वारा बच्चा गोद लिए जाने पर उसे अनुकंपा नियुक्ति का अधिकार होगा।लेकिन आज कोर्ट द्वारा सुनाई गए फैसला में सिंगल पेरेंट के बच्चे को भी यह अधिकार मिल गया है।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...