क्या सच में लोगों को करोड़पति बनाएगी Dogecoin!

Dogecoin
Dogecoin

डेस्क रिपोर्ट| क्रिप्टो करेंसी के बाजार में इन दिनों Dogecoin की चर्चा है। 24 घंटे में 100% की वृद्धि करने वाली इस क्रिप्टो करेंसी को भविष्य की बिटकॉइन बताया जा रहा है। कई बड़े उद्योगपति इससे सपोर्ट कर रहे हैं ।

दिल्ली में 26 अप्रैल तक टोटल लॉकडाउन, सीएम ने कहा- अब नहीं किया तो कोलेप्स हो सकता है हेल्थ सिस्टम

क्रिप्टो करेंसी का नाम सामने आते ही बिटकॉइन का नाम सबसे पहले आता है। 2009 में शुरू हुई बिटकॉइन की कीमत आज भारतीय मुद्रा में लगभग 48 लाख रुपए है यानी 2009 में इसे मात्र छह पैसे मे खरीदने वाले लोग अरबों खरबों के मालिक हो चुके हैं।इन सब के बीच एक और क्रिप्टो करेंसी Dogecoin इस समय चर्चा में बनी हुई है ।दरअसल 16 अप्रैल को अचानक इस क्रिप्टो करेंसी ने 100% की वृद्धि हासिल की। इसका प्रमुख कारण टेस्ला के मालिक विश्व के जाने-माने उद्योगपति एलन मस्क का एक ट्वीट रहा जिसमें लिखा था “डॉग बार्किंग एट द मून।” यह ट्वीट क्रिप्टो करेंसी बाजार में Dogecoin के बड़े पैमाने पर विकास का इशारा था। दरअसल मस्क पिछले कुछ समय से Dogecoin के प्रमुख प्रमोटरों में से रहे है।

आखिर क्या है ये रेमडेसिवीर? अचानक क्यों आया मांग में इतना उछाल? आइए जानते हैं

Dogecoin क्रिप्टो करेंसी की शुरुआत 2013 में मजाक मजाक में हुई। पिछले एक साल में Dogecoin ने 11853.75% की वृद्धि हासिल की है ।यह बिटकॉइन द्वारा प्राप्त 739.13 निश्चित की वृद्धि से काफी आगे है। हालांकि इसकी कीमत अभी बिटकॉइन जैसी क्रिप्टो करेंसी की तुलना में बहुत कम है। शुक्रवार 16 अप्रैल को इसमें 100% से अधिक बढ़ोतरी हुई और यह 0.29 $1 यानी 20 रू के माइलस्टोन को पार कर चुका ।यह कीमत एक दिन पहले दर्ज की गई कीमत से दो गुना अधिक है ।एलन मस्क के ट्वीट के बाद बड़ी संख्या में उनके फॉलोअर्स Dogecoin में निवेश पर अपनी रुचि दिखा रहे हैं।

रतलाम मेडिकल काॅलेज में लापरवाही के बीच एक और परिवार तबाह, बेटी ने दी मुखग्नि

क्रिप्टो करेंसी किसी मुद्रा का एक डिजिटल रूप है. यह किसी सिक्के या नोट की तरह ठोस रूप में आपकी जेब में नहीं होता है. यह पूरी तरह से ऑनलाइन होती है और व्यापार के रूप में बिना किसी नियमों के इसके ज़रिए व्यापार होता है।इसको कोई सरकार या कोई विनियामक अथॉरिटी जारी नहीं करती है।