Bhopal News: एसआई को मिली जान से मारने की धमकी, बेटे की पिटाई से आक्रोषित पिता ने लिया ये कदम

करीब 3-4 मार्च के करीब एसआई ने उनके बेटे के साथ मार-पीट की और गलत एफआईआर (fake FIR) दर्ज कर जेल भेज दिया। वहीं एसआई ने बताया की अरुण पांडेय का बेटा उस रात नशे में धुत (drunk) था और घर जाने के लिए कहने पर हंगामा कर रहा था। इसी के चलते उस पर शांति भंग करने को लेकर मामला दर्ज किया गया था।

Indore News
mp police

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल (bhopal) के कोलार (kolar) क्षेत्र में बड़ी ही अजीब वारदात हुई है। एक व्यक्ति ने इंटरनेट और फोन के ज़रिये कोलार में पदस्थ सब इंस्पेक्टर (sub-inspector) को जान से मार डालने की धमकी दी है। ये धमकी अरुण पांडेय नाम के व्यक्ति ने दी है। इस धमकी के पीछे का कारण बताते हुए अरुण ने बताया कि करीब 3-4 मार्च के करीब एसआई ने उनके बेटे के साथ मार-पीट की और गलत एफआईआर (fake FIR) दर्ज कर जेल भेज दिया। वहीं एसआई ने बताया की अरुण पांडेय का बेटा उस रात नशे में धुत (drunk) था और घर जाने के लिए कहने पर हंगामा कर रहा था। इसी के चलते उस पर शांति भंग करने को लेकर मामला दर्ज किया गया था।

रिपोर्ट के मुताबिक एसआई वंशज श्रीवास्तव 3-4 मार्च के करीब कोलार में रात में अपनी ड्यूटी पर थे। तभी उन्हें होटल के बाहर नशे में हंगामा करने वालों की सूचना मिली। सूचना मिलते हो वे टीम के साथ उस वहां पहुंचे। प्रियंका नगर निवासी उत्कर्ष पांडेय पुत्र आलोक पांडेय भी उन्हीं में से एक था। एसआई ने उससे घर जाने को कहा जिसके बाद वो घर जाने की बजाय हंगामा करने लगा।इसके बाद उसे शांति भंग की धाराओं के तहत गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया। बाद में उसे जमानत मिल गयी थी।

यह भी पढ़ें… महिला अधिकारी ने लगाया सीईओ पर यौन शोषण का गंभीर आरोप, आत्महत्या की बात कही

इसी सिलसिले में इंटरनेट व फोन के माध्यम से एसआई वंशज श्रीवास्तव को जान से मारने की धमकी दी गयी है। जिस इंटरनेट एकाउंट का इस्तेमाल धमकी देने के लिए किया गया है वो अकाऊंट उत्कर्ष पांडेय के पिता अरुण पांडेय का है। अरुण ने दलील दी है कि उनका बेटा उत्कर्ष इवेंट कम्पनी का मालिक है सुर उस रात वो मीटिंग खत्म करके घर लौट रहा था। तभी पुलिसकर्मियों ने उसे कोलार में रोककर अभद्र व्यवहार किया और विरोध करने पर गलत कार्यवाही कर उसे जेल में डाल दिया। उनका आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने उनके बेटे को इतना मारा किनसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था।