भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) ने एक बार फिर से कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (rahul gandhi) के बयान पर पलटवार किया है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि राहुल बाबा को निंदा राग छेड़ने से पहले फैक्ट चेक (fact check) करना आना चाहिए। दरअसल मामला राहुल गांधी के ट्वीट (tweet) को लेकर है। जहां उन्होंने वैक्सीनेशन (vaccination) की खपत को लेकर सवाल खड़े किए हैं।

दरअसल राहुल गांधी ने पिछले दिनों ट्वीट करते हुए कहा था कि देश में कोरोना से स्थिति गंभीर हो गई है। वही वैक्सीनेशन की कमी लगातार एक गंभीर समस्या बनी हुई है। ऐसी स्थिति में अपने देश को खतरे में डालकर वैक्सीन को एक्सपोर्ट (export) करना क्या सही है। जिस पर पलटवार करते हुए नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि राहुल गांधी को बिना फैक्ट चेक किए बोलने की आदत है।

इतना ही नहीं नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि ट्विटर पर निंदा राग छेड़ने से पहले एक बार उन्हें महाराष्ट्र सरकार की सहयोगी पार्टी एनसीपी के मुखिया शरद पवार का बयान पढ़ लेना चाहिए। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि केंद्र सरकार पर आरोप लगाए जा रहे हैं कि वह राज्यों को वैक्सीन मामले में सोतेला पूर्ण रवैया अपना रही है लेकिन महाराष्ट्र सरकार के ही सहयोगी दल द्वारा इस बात का खंडन किया गया है। अगर राहुल बाबा यह बयान पढ़ लेते तो उनके नेत्र खुल जाते।

Read More: पूर्व सासंद व वरिष्ठ भाजपा नेता का कोरोना से निधन, जानें उनका राजनीतिक सफर

इसके साथ ही गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि केंद्र सरकार द्वारा राज्य सरकारों को पूरा सहयोग किया जा रहा है। बता दें कि इससे पहले भी कई बार ऐसी स्थिति आई है। जहां गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा विपक्ष को घेर चुके है। वहीं राहुल गांधी के बयान पर उन्होंने पलटवार किया है।

इधर कांग्रेस द्वारा हाल ही में अपने ट्विटर अकाउंट से बयान जारी करके कहा गया था कि देश की जनता अपना ख्याल खुद रखे क्योंकि सरकार के नाम पर बहरूपिया देश पर कब्जा कर बैठे हुए हैं। जिस पर बोलते हुए नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि इस बात की चिंता कांग्रेस ना करें। देश की जनता समझदार हो चुकी है। वह कभी भी ऐसे बहरूपिए के बहकावे में नहीं आएगी। जो कि कोट के ऊपर से जनेऊ धारण करते हैं।

बता दे कि देश में लगातार वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया जा रहा है। कई अस्पतालों में वैक्सीन की कमी देखी गई है हालांकि इस मामले में राज्य सरकार के साथ-साथ केंद्र सरकार भी गंभीर है। वही अपनी पिछली बैठक करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी वैक्सीन के लापरवाही से होने वाले खपत को लेकर विशेष ध्यान देने की जरूरत बताई थी। वहीं उन्होंने कहा था कि देश मैं वैक्सीन को तैयार किया जा रहा है और किसी भी राज्य में वैक्सीन की कमी नहीं होने दी जाएगी। इसके साथ ही उन्होंने एक 11 से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव मनाने की बात कही थी।