नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। सुप्रीम कोर्ट ऑक्सीजन ऑडिट टीम ने केजरीवाल सरकार (kejriwal government) पर बड़ा आरोप लगाया है। सुप्रीम कोर्ट (supreme court) को जमा की गई रिपोर्ट के अनुसार केजरीवाल सरकार ने बीते महीनों में कोरोना की पीक के दौरान दिल्ली (delhi) में ऑक्सीजन की मांग (oxygen demand) को चारगुना बढ़ा कर बताया था। केजरीवाल की इस हरकत से देश के अन्य राज्यों में जहां कोरोना संक्रमण के मामले अधिक थे, वहां ऑक्सीजन की सप्लाई भरपूर मात्रा में नहीं हो पाई थी। इन सबके बीच देश में ऑक्सीजन की किल्लत की खबरों ने प्रशासन को परेशान और जनता को डर और बेचैनी में डाल दिया था।

यह भी पढ़ें… Breaking : पूर्व गृहमंत्री के घर ED ki छापा, महीने भर में दूसरी कार्रवाई

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार ऑडिट टीम ने जो रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में जमा की उसके मुताबिक केजरीवाल सरकार ने 25 अप्रैल से 10 मई के बीच कोरोना की पीक के दौरान ऑक्सीजन की मांग को चार गुना बढ़ा कर बताया था। सुप्रीम कोर्ट की कमेटी ने आज अपनी रिपोर्ट में बताया कि 289 मीट्रिक टन आक्सीजन की जरूरत को केजरीवाल ने 4 गुना 1140 MT बताया जिससे अन्य जरूरतमंद राज्यों को आक्सीजन नहीं मिल सकी।

यह भी पढ़ें… कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी, DA भुगतान से पहले शासन ने दी बड़ी राहत

आरोप ये भी है कि 4 गुना ज्यादा आक्सीजन मिलने के बाद भी दिल्ली में लोगों को ऑक्सीजन नहीं दी गई और मरीज तडपकर मरे।